बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 2019 के लोकसभा चुनाव को लेकर बड़ा बयान देते हुए कहा कि वो 2019 में पीएम पद की दौड़ में शामिल नहीं है.

उन्होंने कहा, ‘हम इतने मूर्ख नहीं हैं, 2019 के दावेदार हम नहीं हैं.’ नीतीश कुमार ने आगे कहा, ‘ मेरे बारे में व्यक्तिगत आकांक्षा दिखाकर तरह-तरह की बात की जाती है. शरद जी अध्यक्ष नहीं बन सकते थे, हम पार्टी के अध्यक्ष बन गए तो इसे मेरे राष्ट्रीय महत्वाकांक्षा के तौर पर देखा जाने लगा.’

और पढ़े -   अल्पसंख्यकों की सुरक्षा के मामले में दुसरे लोकतांत्रिक देशों से आगे है भारत: नकवी

उन्होंने कहा, “मैं 2019 के लिए प्रधानमंत्री पद का दावेदार नहीं हूं. मेरी पार्टी छोटी है. जिसमें क्षमता होगी, वह प्रधानमंत्री होगा. पांच साल पहले किसने सोचा था कि मोदी प्रधानमंत्री होंगे. लेकिन जनता को उनमें क्षमती दिखी और आज वह प्रधानमंत्री हैं. जिसमें क्षमता होगी वह 2019 में आगे आएगा.”

जुलाई में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव के बारे में नीतीश कुमार ने कहा कि ये अच्छा होगा अगर वो (प्रणब मुखर्जी) दोबारा राष्ट्रपति बनते हैं, लेकिन इसके लिए सत्ताधारी पार्टी को पहल करनी होगी. उन्होंने कहा, विपक्षी पार्टियों को राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए आम सहमति से निर्णय लेना चाहिए. यही परंपरा रही है, अगर सहमति नहीं बने तो विपक्ष को अपना प्रत्याशी देना फर्ज है.

और पढ़े -   ट्रिपल तलाक मामले में ओवैसी ने कहा - 'सुप्रीम कोर्ट के फैसले को जमीन पर लागू करना बड़ा काम'

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE