केंद्रीय गृह मंत्रालय से निकलती हुई जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री ने साफ़ कर दिया की NIT श्रीनगर को कहीं शिफ़्ट नहीं किया जाएगा।

कहीं और स्थानांतरित नहीं किया जाएगा श्रीनगर NIT, बोलीं महबूबा मुफ्तीमहबूबा ने एनडीटीवी इंडिया को बताया, ‘छात्र चाहते हैं कि NIT शिफ़्ट हो लेकिन ऐसा मुमकिन नहीं। NIT श्रीनगर में झगड़ा कॉलेज के छात्रों का अंदरूनी झगड़ा है, इसे स्थानीय और बाहरी के झगड़े की तरह नहीं देखा जाना चाहिए। राज्य में हर छात्र सुरक्षित है। कुछ छात्रों की समस्याएं थीं, उन्हें केंद्र और राज्य का HRD मंत्रालय देख रहा है।

और पढ़े -   कोविंद को राष्ट्रपति बनाने के लिए दलित प्रेम नहीं बल्कि आरएसएस से जुड़ा होना है: मायावती

उधर NIT कैम्पस से क़रीब 1200 छात्र अपने घर वापिस चले गए हैं इन सबने अपनी परीक्षाओं का बहिष्कार किया है। महबूबा का कहना है, “कुछ छात्र अपने घर जाना चाहते थे वो घर चले गए हैं, उनकी परीक्षाएं आगे हो जाएंगी।”

वैसे मंगलवार को स्थानीय छात्र भी अपनी परीक्षा नहीं दे सके क्योंकि इलाक़े में हड़ताल थी। बुधवार को भी हंदवारा में मारे गए नौजवानों के ख़िलाफ़ हड़ताल है इसीलिए छात्र परीक्षा फिर नहीं दे पाएंगे।

और पढ़े -   रामनाथ कोविंद के चयन पर उठाये सवाल तो पत्रकार के खिलाफ बीजेपी नेता ने कराई एफआईआर

जम्मू में भी इन छात्रों के समर्थन में कई जुलूस निकाले गए वैसे। NIT में पढ़ने वाली कुछ लड़कियों ने NCW का दरवाज़ा भी खटकाया है।

इधर नॉर्थ ब्लॉक में भी घाटी के मौजूदा हालत को लेकर गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने चिंता जतायी। राजनाथ ने महबूबा से कहा, “कैम्पस में पढ़ाई का माहौल बनाया जाना चाहिए और छात्रों को ये नहीं लगना चाहिए कि वो असुरक्षित हैं।” (khabar.ndtv.com)

और पढ़े -   किसानों की कर्जमाफ़ी पर नायडू का शर्मनाक बयान - देश में फैशन बन चूका है कर्ज माफी

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE