केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री एम. वेंकैया नायडू ने तीन तलाक को लेकर कहा कि खुद मुस्लिम समुदाय को तीन तलाक को खत्म कर देना चाहिए. अन्यथा सरकार कानून लाकर इसे प्रतिबंधित कर देगी.

उन्होंने कहा कि यह किसी के निजी मामले में दखल नहीं है, बल्कि यह महिलाओं के प्रति न्याय का सवाल है. कानून के समक्ष समानता यह मुद्दा है.  उन्होंने कहा कि हिंदू समाज में भी बाल विवाह, सती और दहेज जैसी बुरी प्रथाओं को समाप्त करने के लिए कानून बनाए गए.

केंद्रीय मंत्री ने कहा, ‘‘हिंदू समाज ने बाल विवाह पर चर्चा की और इसे प्रतिबंधित करने के लिए संसद में कानून पारित किया गया. दूसरा है सती सहगमन जिसमें प्राचीन समय में पति की मौत के बाद पत्नी मौत को गले लगा लेती थी. इसे हिंदू समाज ने ही कानून बनाकर बंद किया. तीसरा दहेज का मामला है।.दहेज उन्मूलन कानून पारित किया गया और हिंदू समाज ने इसे स्वीकार किया.

नायडू ने कहा कि इंसान को इंसान की तरह देखें. उसे हिंदू, ईसाई या मुसलमान के तौर पर अलग नहीं करें. ऐसे भेदभाव के जरिये महिलाओं के प्रति अन्याय नहीं होना चाहिए.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE