बिहार में महागठबंधन को तोड़ बीजेपी के साथ सत्ता में वापसी को लेकर नीतीश कुमार के खिलाफ पार्टी नेताओं ने ही मौर्चा खोल दिया है. जेडीयू सांसद अली अनवर ने नीतीश कुमार के इस कदम की कड़ी आलोचना की है.

अली अनवर ने कहा कि नीतीश कुमार ने अंतरात्मा की आवाज पर भले ही बीजेपी के साथ जाने का फैसला कर लिया. लेकिन, मेरे जमीर को यह बात गवारा नहीं है. बीजेपी आज भी उसी उग्र रास्ते पर जा रही है जिस रास्ते से हमें परहेज था.

उन्होंने आगे कहा कि मैं नीतीश कुमार के फैसले का समर्थन नहीं कर सकता.इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि अगर उनको मौका मिलेगा तो पार्टी के सामने अपना पक्ष जरूर रखेंगे. माना जा रहा है कि जेडीयू के 71 में से करीब 15 से 20 ऐसे मुस्लिम-यादव विधायक हैं, जो इस फैसले से नाराज हैं.

इस फैसले के विरोध में पूर्व जेडीयू अध्यक्ष शरद यादव भी खुलकर सामने आ गए है. शरद यादव ने कहा, ‘नीतीश कुमार ने सरकार बनाने का फैसला बहुत जल्दबाजी में लिया है. गठबंधन तोड़कर इतनी जल्दी बीजेपी के समर्थन से सरकार बनाने के फैसले का मैं समर्थन नहीं करता हूं.’

उन्होंने कहा कि इससे बिहार में गलत संदेश जाएगा. हालांकि जेडीयू नेता केसी त्यागी ने शरद यादव से फोन पर बात की है, उन्हें मनाने की कोशिश की है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE