rahul

उत्तरप्रदेश में किसान यात्रा पर निकाले कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी ने मुस्लिम समुदाय के लोगों के साथ एक बैठक की जिसमे राहुल ने उन्हें हमेशा साथ जोड़े रखने का पूरा यकीन और भरोसा दिया.

शुक्रवार को कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया के जिलाध्यक्ष मदीउर्रहमान शेरवानी के मैरिस रोड स्थित आवास पर हुई बैठक में एएमयू के करीब 30 शिक्षकों के साथ बैठक की. इस दौरान राहुल ने कहा कि कांग्रेस ही ऐसी पार्टी है, जोकि सभी धर्म संप्रदायों को साथ लेकर चलती है, जबकि आरएसएस के डीएनए में डेमोक्रेसी (लोकतंत्र ) नहीं, डिक्टेटरशिप (तानाशाही) है.

और पढ़े -   शरद यादव के साथ 20 विधायक, कभी भी गिरा सकते है नितीश सरकार

भाजपा शासन में मुसलमानों के भय में जीवन व्यतीत करने के बारें में बताने पर राहुल ने कहा कि आप सिर्फ मुसलमानों की बात क्यों कर रहे हैं. दलित, आदिवासी, ईसाई, सिख व सभी कमजोर तबका स्वयं को भयभीत महसूस कर रहा है। इसे संकुचित रूप में न देखें.

उनोहने आगे कहा, भाजपा एवं आरएसएस वाले कहते हैं कि वह धर्म एवं देश की संस्कृति की रक्षा कर रहे हैं, जो सही नहीं हैं. वह तमाम शक्तियां चंद लोगों के हाथ में समेट देना चाहते हैं. वह अल्पसंख्यक, दलित, महिला एवं कमजोर तबके की भागीदारी नहीं देखना चाहते हैं। उन्हें यह भय भी है कि सभी शक्तियां एक जगह इकट्ठा न हो जाएं, इसलिए वह तनाव का वातावरण बनाए रखना चाहते हैं.

और पढ़े -   स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस बन गए 'पिकनिक डे' - शिवसेना

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE