azam

लखनऊ में दशहरें के मौके पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा सार्वजनिक मंच से जय श्रीराम का नारा लगाने को लेकर समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता आजम खान ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की आलोचना करते हुए कहा कि मोदी को सार्वजनिक मंच पर जय श्रीराम के साथ-साथ नारा-ए-तकबीर और वाहे गुरु का खालसा का नारा भी लगाना चाहिये.

उन्होंने आगे कहा कि प्रधानमंत्री तो संवैधानिक पद है और इस लिहाज से मोदी तमाम मजहबों को मानने वाले लोगों के प्रधानमंत्री हैं. अगर उन्होंने जय श्रीराम का नारा लगाया था तो उन्हें नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर और वाहे गुरु का खालसा, वाहे गुरु की फतेह भी बोलना चाहिए था.

तीन तलाक के को लेकर उन्होंने कहा कि तलाक कैसे होगा, शादी कैसे होगी और नमाज कैसे पढ़ी जाएगी, यह पर्सनल लॉ से ही तय होगा. अयोध्या में राम का स्मारक बनाए जाने के सवाल पर उन्होंने कहा, अल्लाह ने एक लाख 40 हजार पैगम्बर दुनिया में भेजे हैं. उनमें से 20 के नाम भी कुरान शरीफ में हैं. राम और कृष्ण हमारे रहनुमा पेशवा हो भी सकते हैं और नहीं भी.

उन्होंने आगे कहा, विद्वानों के बीच इस मुद्दे पर बहस चल रही है. ऐसे में भाजपा के अयोध्या में स्मारक बनाने पर हमें एतराज है. किसी की यादगार को मिटाकर उस जगह किसी और की यादगार बनाना ठीक नहीं है. उन्होंने कहा, अयोध्या में मस्जिद बाबर ने नहीं बनवाई थी. मस्जिद किसी के भी नाम पर हो सकती है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment

Related Posts

loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें
SHARE