s-controlling-dictating-modi-government-says-yechury
रोहतक। सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी ने अयोध्या में राम मंदिर मुद्दे पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का उल्लंघन करने का आरोप लगाया और कहा कि केंद्र सरकार आरएसएस की नीतियों को लागू करते हुए देश को हिंदू राष्ट्र बनाने पर तुली हुई है।
काॅमरेड सुरजीत की जन्म शताब्दी पर था कार्यक्रम
__________________
सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी आज रोहतक में थे। वे आज का भारत और वामपंथ विषय पर आयोजित संगोष्ठी को संबोधित करने के लिए आए थे। इस संगोष्ठी का आयोजन सीपीएम की हरियाणा इकाई की ओर से काॅमरेड हरकिशन सिंह सुरजीत की जन्म शताब्दी के अवसर पर किया गया। सीपीएम ने राम मंदिर के मुद्दे का जिक्र कर एक बार फिर केंद्र सरकार को घेरने की कोशिश की।
राम मंदिर पर दी प्रतिक्रिया
__________________
उन्होंने कहा कि राम मंदिर के मुद्दे पर सभी पार्टियों की एक ही राय है कि जब तक सुप्रीम कोर्ट कोई निर्णय नहीं लेती, तब तक कोई कार्यवाही नहीं होगी, लेकिन सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का उल्लंघन कर अयोध्या में पत्थर भिजवाए गए। भाजपा सरकार के एक मंत्री तो यहां तक कह रहे हैं कि पांच साल के अंदर राम मंदिर का निर्माण होगा। येचुरी ने कहा कि दरअसल इन सबके पीछे आरएसएस का हाथ है।
इनकी भी की येचुरी ने आलोचना
__________________
सीपीएम महासचिव ने देश में जारी आर्थिक नीतियों की आलोचना की। वहीं, सरकार पर सांप्रदायिक जहर फैलाने का आरोप भी लगाया। उन्होंने कहा कि देश की सत्ता पर आज जनविरोधी आर्थिक नीतियां, सांप्रदायिकता व तानाशाही की त्रिमूर्ति विराजमान है। यह त्रिमुर्ति त्रिशूल बनना चाहती है। देश की जनता व वामपंथ को हर हाल में इसे त्रिशूल बनने से रोकना होगा। सीताराम येचुरी ने पश्चिम बंगाल में आगामी विधानसभा का भी जिक्र किया और मौजूदा तृणमूल सरकार की आलोचना की। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल चुनाव में गठबंधन के बारे में 17 व 18 फरवरी को होने वाली केंद्रीय कमेटी की बैठक में फैसला लिया जाएगा। उन्होंने तृणमूल कांग्रेस व भाजपा में भी एक किस्म का समझौता होने का आरोप लगाया।

लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें