माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने एक बार फिर से कश्मीर में अशांति को लेकर केंद्र की मोदी सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि ये सब राजनितिक लाभ उठाने के लिए किया गया हैं.

येचुरी ने कहा, पिछले वर्ष एक सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल कश्मीर गया था, जिसने हालात को सामान्य बनाने के लिए सुझाव दिए थे. लेकिन बीते छह माह में बीजेपी सरकार ने पक्षकारों के साथ वार्ता प्रक्रिया भी शुरू नहीं की जिससे राज्य में पहले से विस्फोटक बने हालात और ज्यादा जटिल हो गए.

और पढ़े -   मोदी सरकार की बजट कटौती के चलते गई गोरखपुर में बच्चों की जान: राहुल गांधी

येचुरी ने कहा, ‘‘सरकार ने इस बातचीत पर पहले हामी भरी थी लेकिन बीते छह माह में कुछ नहीं हुआ.” उन्होंने आरोप लगाया कि बीजेपी सरकार कश्मीर समस्या को बनाए रखना चाहती ताकि राजनीतिक तथा सांप्रदायिक फायदा उठा सके.

उन्होंने मोदी सरकार को आड़े हाथों लिया और कहा कि वह ‘‘हिंदुत्व को विकास के रोल मॉडल’’ की तरह पेश करने की कोशिश कर रही है. येचुरी ने कहा कि देश एक ऐसे दौर से गुजर रहा है जहां ऐसे राष्ट्रपति की जरूरत है जिसकी छवि धर्मनिरपेक्ष तथा बेदाग हो.

और पढ़े -   बिहार में हुए सर्जन घोटाले के एक आरोपी नाजिर महेश की मौत, लालू ने नितीश पर उठाये सवाल

उन्होंने आगे कहा, ऐसे में अगला राष्ट्रपति बेदाग धर्मनिरपेक्ष छवि वाला चुनने की खातिर उनकी पार्टी तृणमूल तथा अन्य विपक्षी पार्टियों को समर्थन देने के खिलाफ नहीं है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE