maya1

नोटबंदी के मुद्दे पर मोदी सरकार को घेरते हुए बसपा प्रमुख मायावती ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लिए गए नोटबंदी के फैसले की आलोचना करते हुए आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी का निर्णय अपने चहेते पूंजीपतियों के कालेधन, अपनी पार्टी और नेताओं के कालेधन को ठिकाने लगाने के लिए लिया और आने वाले चुनाव में जनता उन्हें सबक सिखायेगी.

और पढ़े -   मध्य प्रदेश में सेक्स रैकेट चलाने और जासूसी काण्ड में बीजेपी नेताओ के पकडे जाने से पार्टी की राष्ट्रवादी छवि को पहुंचा नुक्सान ?

उन्होंने कहा कि जब बीजेपी के नेतृत्व में केंद्र में राजग सरकार बनी तब मैंने कहा था कि अब गरीब, मेहनतकश, मध्यमवर्ग की हालत बहुत खराब होने वाली है. बीच.बीच में मोदी सरकार ने जनहित के नाम पर कई फैसले लिये लेकिन जनहित की आड़ में अपने चहेते पूंजीपतियों और धन्नासेठों को फायदा पहुंचाया.

बसपा अध्यक्ष ने कहा कि 500 रुपये और 1000 रुपये के नोटों पर पाबंदी लगाने का निर्णय किया गया और यह दावा किया गया कि 10 महीने से तैयारी चल रही थी. जब इतने समय से तैयारी चल रही थी तब जनता को इतनी परेशानियां क्यों उठानी पड़ रही है?

और पढ़े -   कपिल मिश्रा का केजरीवाल पर गंभीर आरोप - अवैध कमाई के चलते किया था नोटबंदी का विरोध

मायावती ने दावा किया कि प्रधानमंत्री मोदी ने नोटबंदी का निर्णय अपने चहेते पूंजीपतियों के कालेधन, अपनी पार्टी और नेताओं के कालेधन को ठिकाने लगाने के लिए किया. और अब 50 दिन और मांग रहे हैं. उन्होंने कहा कि जनता इतनी नासमझ नहीं है. वो सब समझती है. भाजपा ने अपने एक चौथाई चुनावी वादे पूरे नहीं किए और जनता को उलझाने का काम कर रही है. जनता उन्हें सबक सिखाएगी.

और पढ़े -   बीजेपी के जंगलराज में मुस्लिमों को मारा जा रहा और सरकार पूरी तरह खामोश - सीताराम येचुरी

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE