समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव ने 1990 में कारसेवकों के पर गोली चलाने के अपने आदेश को सही करार देते हुए कहा कि अगर वह अयोध्या में मस्जिद नहीं बचाते तो कई मुस्लिम नौजवान हाथों में हथियार उठा लेते.

अपने 79वें जन्मदिन पर सपा राज्य मुख्यालय पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘1990 में अपने मुख्यमंत्रित्व काल में देश की एकता के लिए कारसेवकों पर गोलियां चलवाईं. उसमें 28 लोग मारे गए. अगर और मारने होते तो हमारे सुरक्षाबल और मारते”

उन्होंने दावा किया, ‘‘आज हम आपको गोपनीय बात बता रहे हैं…अगर हम मस्जिद नहीं बचाते तो, उस दौर के कई मुस्लिम नौजवानों ने हथियार उठा लिए थे. उन्होंने कहा कि जब हमारा पूजास्थल नहीं रहेगा तो देश हमारा है कैसे? इन सवालों को आपको जानना होगा.’’

मुलायम ने बताया कि अयोध्या में गोली चलवाने के बाद भी 1993 के विधानसभा चुनाव में सपा 105 सीटें जीत गई थी और फिर सपा की सरकार बन गई थी. इसी के साथ उन्होंने चिंता जाहिर की और कहा, उस वक्त सपा के नौजवान कार्यकर्ता जैसे थे, आज उन जैसे नौजवानों की कमी है.

उन्होंने कहा आमतौर पर मुसलमान आज भी सपा के साथ सहानुभूति रखता है, लेकिन मौजूदा हालात को आप कैसे ठीक करोगे, बूथ कैसे चलवाओगे….. उनकी मुसीबत में साथ देकर


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE