mano

वित्त मंत्री अरुण जेटली के बाद अब रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने अदालतों को अपने निशाने पर लिया हैं. पर्रिकर ने कहा है कि कोर्ट के कुछ निर्देश ‘बेतुके’ हैं और इनका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं हैं। उन्होंने आगे कहा कि विज्ञान को नहीं समझने वाले कुछ लोगों ने इसका मतलब निकालना शुरू कर दिया है। बिना किसी वैज्ञानिक आधार के ‘बेतुके’ निर्देश दिए जा रहे हैं।

पर्रिकर ने मर्सिडिज बेंज कंपनी की रिपोर्ट का हवाला देते हुवे कहा कि उन्होंने भारत में निवेश बंद कर दिया है, क्योंकि उनका कहना है कि अदालत के फैसले उनकी समझ से परे हैं। उनका कहना है हम डीजल वाहनों को प्रतिबंधित करने का औचित्य समझ नहीं पा रहे हैं।

पर्रिकर ने आगे कहा कि हम समझ सकते हैं कि आप प्रदूषण फैलाने वाले डीजल वाहनों को प्रतिबंधित कर सकते हैं, लेकिन पेट्रोल वाहनों से कम या बिल्कुल प्रदूषण नहीं फैलाने वाले डीजल वाहनों पर प्रतिबंध लगाने का क्या मतलब है।


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें