mamta

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गौरक्षकों को साफ़ शब्दों में समझाते हुए कहा कि यदि किसी ने कानून तोड़ा तो कानून फिर अपने ढंग से काम करेगा.

ममता ने कहा कि, कोई शाकाहारी व्यक्ति शाकाहारी भोजन करेगा जबकि मांसाहारी व्यक्ति मांसाहार करेगा. उन्होंने भगवा संगठनो की और इशारा करते हुए कहा कि ये लोग बताने वाले कौन होते हैं कि मैं क्या खाउं.

और पढ़े -   BHU मामले में कांग्रेस का बीजेपी पर हमला - 'बेटी बचाओ का नारा बेटी पिटवाओ में बदल गया'

उन्होंने गौमांस खाने का समर्थन करते हुए कहा कि सभी को अपने धर्म के पालन का अधिकार है और वे गायें गिन रहे हैं. यूरोप में लोग गाय खाते हैं. आदिवासी लोग भी गाय खाते हैं.

इसके अलावा उन्होंने विधानसभा के अगले सत्र में सरकार एक विधेयक लाने का फैसला किया हैं जिसके अनुसार  किसी भी दंगे के दोषियों के लिए यह अनिवार्य होगा कि वे पीडि़तों को मुआवजा दें.

और पढ़े -   रोहिंग्या पर ओवैसी ने लगाई राजनाथ को फटकार, कहा - उन्हें अवैध अप्रवासी कहना ठीक नहीं

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE