लखनऊ | मंगलवार को लखनऊ में मेट्रो ट्रेन सेवा की औपचारिक शुरुआत हो गयी. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ , केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह और राज्यपाल राम नाइक ने मिलकर मेट्रो ट्रेन सेवा का उद्घाटन किया. इसी के साथ नवाबो का शहर लखनऊ भी इतरो ट्रेन सेवा वाले शहरो की श्रेणी में आ गया. यह दूसरा मौका था जब लखनऊ मेट्रो सेवा का उद्घाटन किया गया. इससे पहले पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव भी ऐसा कर चुके है.

लेकिन उस समय इसको आम जनता के लिए नही खोला गया था. मंगलवार से लखनऊ की जनता मेट्रो सेवा का आनंद उठा सकेगी. हालाँकि इस दौरान मेट्रो ट्रेन का श्रेय लेने की भी होड़ मची रही. जहाँ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मेट्रो सेवा के लिए प्रधानमंत्री मोदी का शुक्रिया अदा किया वही अखिलेश ने भी ट्वीट कर यह जताने की कोशिश की, की लखनऊ को मेट्रो सेवा देने का काम उन्होंने किया है.

दरअसल लखनऊ में मेट्रो सेवा शुरू करने का ख्वाब मायावती ने देखा था लेकिन वो इसे धरातल पर नही उतार पायी. हालाँकि अपने कार्यकाल के अंतिम समय में उन्होंने लखनऊ में मेट्रो ट्रेन चलाने के लिए केंद्र सरकार को फाइल बनाकर भेजी थी लेकिन उसके बाद वो सत्ता में नही आ पायी. बाद में अखिलेश यादव प्रदेश के मुख्यमंत्री बने तो उन्होंने इसे धरातल पर लाने का काम किया. लखनऊ मेट्रो की शुरुआत 2013 में की गयी.

साल 2017 में यह बनकर तैयार हो गयी. इसलिए अखिलेश ने विधानसभा चुनावो से पहले ही इसका उद्घाटन कर दिया. हालाँकि विपक्ष ने आरोप लगाया की बिना काम पुरे हुए ही अखिलेश ने इसका उद्घाटन कर दिया. जब आज योगी ने मेट्रो ट्रेन का उद्घाटन किया तो उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी को धयवाद देते हुए कहा की खनऊ मेट्रो को आसान किस्तों पर लोन दिलाने के लिए आदरणीय प्रधानमंत्री जी का धन्यवाद. इस पर अखिलेश ने पलटवार करते हुए ट्वीट किया की इंजन तो पहले पहले ही चल दिया था, डब्बे तो पीछे आने ही थे.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE