नई दिल्ली  राज्यसभा में रोहित वेमुला की आत्महत्या के मामले में विपक्षी सांसदों के सवालों का जवाब देते हुए स्मृति ईरानी ने कहा कि कई लोग मुझ पर राजनीतिक हमला करते हुए मुझे ‘अनपढ़ मंत्री’ कहते हैं। ईरानी ने अपने युवा होने का हवाला देते हुए कहा कि जब मुझे मेरी पार्टी ने चुना तो मैं उच्च सदन में किसी भी दल की ओर से आने वाली सबसे युवा सांसद थी, लेकिन विपक्षियों का हमला मेरी डिग्री को लेकर था। मानव संसाधन विकास मंत्री ने कहा कि यह सही है कि मेरे पास बहुत ज्यादा अकादमिक डिग्रियां नहीं हैं और न ही मैं सीताराम येचुरी की तरह विद्वान वक्ता हूं।

 

स्मृति ईरानी ने विपक्ष पर हमला बोलते हुए रोहित वेमुला की ओर से फेसबुक पर लिखी गई उस पोस्ट का भी जिक्र किया, जो उन्होंने आत्महत्या से पहले लिखा था। ईरानी ने रोहित की फेसबुक पोस्ट पढ़ते हुए कहा कि उसने वामपंथी पार्टी सीपीएम की भी आलोचना की थी। स्मृति ने कहा कि मैं सार्वजनिक तौर पर यह उजागर नहीं कर सकती कि मैंने रोहित वेमुला की मां से क्या बात की? स्मृति ने कहा कि विपक्षी पार्टियां दलितों को राजनीतिक चारा बनाने की कोशिश कर रहे हैं।

और पढ़े -   रोहिंग्याओं के अगर आतंकियों से है सबंध तो सबूत सार्वजानिक करे मोदी सरकार: कांग्रेस

स्मृति ने कहा कि कांग्रेस के कार्यकाल में ही दिल्ली यूनिवर्सिटी ने देश की आरक्षण नीति को संस्थान में लागू करने से इनकार कर दिया था। स्मृति ने राज्यसभा में विपक्ष पर हमला बोलते हुए कहा कि ऐसा माहौल बनाया जा रहा है, जैसे मैं बैठकर हर दिन यूनिवर्सिटियों के लिए पत्र लिखती रहती हूं। इस बीच विपक्षी सांसद लगातार हंगामा करते रहे।

और पढ़े -   आजम का शिवपाल पर इशारों में हमला: आस्तीन के साँपों की वजह से हारना पड़ा चुनाव

Let me say there are many who called me an ‘anpadh mantri’. I do not claim I am as erudite a speaker as Yechury ji-Smriti Irani in RS

— ANI (@ANI_news) 25 फ़रवरी 2016

स्मृति ने कहा कि मैंने कभी इस बात को सार्वजनिक तौर पर नहीं कहा कि मैंने वेमुला की मां से बात की थी। स्मृति ने देश के विश्वविद्यालयों के भगवाकरण के आरोप को भी खारिज किया। स्मृति ने कई उदाहरण देते हुए कहा कि ऐसे कई लोगों की भी नियुक्तियां की गई हैं, जो भाजपा की विरोधी विचारधारा से ताल्लुक रखते थे। स्मृति ने जेडीयू सदस्य केसी त्यागी के भाषण के जवाब में कहा कि 2009 में पुलिस जेएनयू में घुसी थी और छात्रों पर लाठीचार्ज किया गया था। लेकिन त्यागी जी ने कहा कि ऐसा पहली बार हुआ है, जब जेएनयू में पुलिस घुसी, यह पूरी तरह से गलत है।

और पढ़े -   प्रिंस्टन यूनिवर्सिटी में बोले राहुल - नए रोजगार देने में पूरी तरह फ़ैल रही मोदी सरकार

राज्यसभा में जेएनयू ने महिषासुर दिवस मनाए जाने और हिंदू देवी दुर्गा पर आपत्तिजनक टिप्पणियों का हवाला दिए जाने पर कांग्रेस सांसद आनंद शर्मा समेत विपक्षी सदस्यों ने विरोध जताया। आनंद शर्मा ने कहा कि आखिर स्मृति ईरानी बार-बार इस तरह के शब्दों का इस्तेमाल क्यों कर रही हैं, क्या यह सदन में बहस के स्तर को गिराना नहीं हैं। विपक्षी सांसदों के हंगामे के चलते राज्यसभा को शुक्रवार तक के लिए स्थगित कर दिया गया। (नवभारत टाइम्स)


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE