पटना | रेल मंत्री रहते हुए रेलवे के दो होटलों के रखरखाव का जिम्मा निजी कंपनियों के देने के मामले में लालू प्रसाद यादव के यहाँ सीबीआई का छापा पड़ा है. शुक्रवार को करीब दो दर्जन अधिकारियो के साथ सीबीआई ने लालू के घर पर छापा मारा. बाद में सीबीआई ने मामले की जानकारी देते हुए कहा की लालू , राबड़ी देवी और उनके पुत्र तेजस्वी यादव के खिलाफ 5 जुलाई को अपराधिक साजिश रचने, भ्रष्टाचार और धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया.

और पढ़े -   रोहिंग्या शरणार्थियों को भी देश रहने का है मौलिक अधिकार: ओवैसी

सीबीआई के अपर निदेशक अपर अस्थाना ने बताया की लालू प्रसाद यादव ने रेल मंत्री रहते हुए रांची और पूरी स्थित भारतीय रेलवे के बीएनआर होटलों का रख रखाव पहले आईआरसीटीसी को सौपा गया और बाद में इसका पूरा नियंत्रण निजी कंपनी सुजाता होटल प्राइवेट लिमिटेड को सौप दिया गया. आरोप है की इसके लिए जो निविदांये मंगाई गयी उसमे धांधली की गयी और अपने करीबी लोगो को फायदा पहुँचाने के लिए शर्तो में ढील दी गयी.

वही सीबीआई के छापे से आग बबूला हुए लालू प्रसाद यादव ने कहा की मेरे खिलाफ बीजेपी और आरएसएस साजिश रच रहे है. मैंने कोई गलत काम नही किया. मेरे खिलाफ बदले के भावना से कार्यवाही की जा रही है. जिस आईआरसीटीसी के होटल की टेंडर की बात की जा रही है उसकी फाइल तक मेरे पास नही आई. अगर मैं दोषी हूँ तो साबित करो और सजा दो. लेकिन मैं इन छापो से डरने वाला नही हूँ.

और पढ़े -   महिला आरक्षण बिल: सोनिया की पीएम मोदी को चुनौती, लोकसभा में है बहुमत पास करवा कर दिखाए

लालू ने बताया की इस प्रक्रिया में रेलवे के सभी नियमो का पालन किया गया था. आईआरसीटीसी का गठन 1999 में किया गया और 2002 में इसने काम करना शुरू किया. 2003 में रेलवे के होटल और यात्री निवास इसके अंतर्गत किये गए. जबकि 2006 में ओपन टेंडर शुरू किये गए. लीज और ठेकों की पूरी प्रक्रिया पारदर्शी थी. केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए लालू ने कहा की देश की हालत बदतर हो चुकी है. मैं मोदी सरकार को हराकर ही दम लूँगा.

और पढ़े -   अमेरिका में बोले राहुल - असहिष्णुता और बेरोजगारी के चलते देश खतरे में जा रहा

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE