आप नेता कुमार विश्वास ने शनिवार को पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती को अफजल गुरु पर अपना नजरिया स्पष्ट करने का आग्रह किया है.

जम्मू एवं कश्मीर में पीडीपी-भाजपा की गठबंधन सरकार एक बार फिर बनाने जा रही है, और अब महबूबा मुफ्ती मुख्यमंत्री होंगी. महबूबा ने वर्ष 2001 में संसद पर हमले में अफजल गुरु की कथित भूमिका के लिए उसे फांसी दिए जाने को गलत ठहराया था.

कुमार विश्वास ने जम्मू एवं कश्मीर की भावी मुख्यमंत्री महबूबा को पत्र लिखकर नौ फरवरी को जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में भारत विरोधी नारे लगाकर लापता हुए कश्मीरी युवकों की गिरफ्तारी में सहयोग करने का आग्रह किया है.

और पढ़े -   राहुल गाँधी ने मोदी को बताया 'हिटलर ', स्मृति ईरानी ने किया पलटवार

विश्वास ने पत्र में लिखा, “हमें पता चला है कि आप भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ गठबंधन सरकार बनाने वाली हैं, लेकिन संसद हमले के आरोपी अफजल गुरु को शहीद मानने जैसे कई मुद्दों पर आपके विचार स्वीकार नहीं किए जा सकते. अब हमें पता चला है कि अफजल पर आपने अपना पुराना नजरिया बदल लिया है. क्या है आपका नया नजरिया?”

विश्वास ने कहा, “आपके नेतृत्व में सरकार गठन की संभावना पर बधाई. आपको खुद मीडिया में बयान देना चाहिए कि आप अफजल गुरु को अब एक शहीद नहीं, बल्कि देशद्रोही मानती हैं.”

और पढ़े -   बंदूक के जरिए कश्मीर में तनाव खत्म करने में कांग्रेस नही सरकार के साथ: गुलाम नबी आजाद

विश्वास ने पत्र की शुरुआत ‘वंदे मातरम’ और अंत ‘भारत माता की जय’ से किया है.

आप नेता ने लिखा, “अब जब आप मानती हैं कि कश्मीर भारत का एक अभिन्न अंग है, आपको जेएनयू में भारत के खिलाफ नारेबाजी करने वाले कश्मीरी युवकों की गिरफ्तारी में सहयोग करना चाहिए.”

विश्वास के इसी पत्र को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रिट्वीट किया है. (thequint)

और पढ़े -   मोब लिंचिंग की हर घटना में आरएसएस से जुड़े लोगों का हाथ: गुलाम नबी आजाद

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE