नई दिल्ली | आम आदमी पार्टी के दिग्गज नेता और मशहूर कवि कुमार विश्वास ने प्रियंका गाँधी के उस बयान पर पलटवार किया है जिसमे उन्होने कहा था की हिंसक भीड़ के द्वारा लोगो को मारे जाने की घटना देखकर उनका खून खौल जाता है. कुमार ने तंज कसते हुए कहा की देश के मौसमी नेताओ के खून , अपने हित की घटनाये देखकर ही खौलते है.

कुमार ने राहुल गाँधी को भी लपेटे में लेते हुए कहा की मुझे इस बात की प्रसन्ता है की दोनों भाई बहन ने समय बांटे हुए है. बहन का खून जुलाई में खौलेगा तो भाई का जून में. भाई अभी नानी के घर में है तो उनका खून वहां से लौटकर खौलेगा , बीच में इनका खौल रहा है. 84 की घटनाओ का जिक्र करते हुए कुमार ने कहा की प्रियंका का खून उन घटनाओ पर भी खौलना चाहिय था. इसके अलावा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के बयान के बाद उनका खून खौलना चाहिए था.

और पढ़े -   टोल मांगने पर प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष का जवाब, मैं सांसद हूँ और टोल फ्री भी

कुमार ने कहा की जब मनमोहन सिंह ने कहा था की देश के संसाधनों पर सबसे पहला हक़ अल्पसंख्यको का है. उस दिन प्रियंका को कहना चाहिए था की यह अजीब बयान है और देश सबके लिए समान है. दुखद है की आजादी के इतने सालो बाद भी लोग सड़क पर समूह, जाति , धर्म और खाने पीने की चीजो के लिए मारे जा रहे है. लेकिन यह मौसमी नेताओ का खून है जो अपने हितकर घटनाओं के लिए ही खौलता है.

और पढ़े -   अमेरिका में बोले राहुल - असहिष्णुता और बेरोजगारी के चलते देश खतरे में जा रहा

कुमार ने प्रधानमंत्री मोदी पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा की पूरी दुनिया में महात्मा गाँधी की प्रतिमाओ पर फूल चढाने वाले हमारे पीएम भीड़ की गुंडागर्दी को रोकने में नाकाम रहे है. यह लोकतंत्र के लिए बेहद कष्टकारी है. मैं उनसे कहना चाहता हूँ की देश में कानून व्यवस्था का राज , आधी रात को बड़े बड़े कार्यक्रम , बड़े बड़े जलसे करने और बड़े बड़े स्टूडियो में इंटरव्यू देने से नही होगा. कुमार ने ऐसी घटनाओं को बेहद ही शर्मनाक बताया.

और पढ़े -   सहारनपुर की आड़ में थी बीजेपी की और से मेरी हत्या कराने की साजिश: मायावती

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE