नई दिल्ली | पंजाब और गोवा विधानसभा चुनावो के बाद एमसीडी इलेक्शन में हुई हार ने आम आदमी पार्टी के अन्दर हलचल पैदा कर दी है. पार्टी के कई विधायक और नेता अलग ही सुर में बात कर रहे है. पार्टी को एकजुट करने और दोबारा खड़ा करने के लिए पार्टी संयोजक अरविन्द केजरीवाल को काफी मसक्कत करनी पड़ रही है. केजरीवाल की सबसे बड़ी चिंता पार्टी के संस्थापक सदस्यों में से एक कुमार विश्वास को लेकर ज्यादा है.

दरअसल कुमार को पहले पंजाब विधानसभा और बाद में एमसीडी चुनावो में प्रचार से दूर रखा गया. इसलिए कुमार पार्टी से थोडा खफा खफा नजर आ रहे थे. जहाँ पार्टी का मत थे की हम ज्यादातर चुनाव ईवीएम् में गड़बड़ी की वजह से हारे वही कुमार ने टीवी न्यूज़ चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा की यह एक कारण हो सकता है लेकिन हम अन्य गलतियों की वजह से भी चुनाव हारे है और हमें अपनी गलतियों से सबक लेकर आगे बढ़ना है.

और पढ़े -   अमेरिका में बोले राहुल - असहिष्णुता और बेरोजगारी के चलते देश खतरे में जा रहा

कुमार के इंटरव्यू के बाद ओखला से आप विधायक और PAC सदस्य अमनातुल्ला खान ने विश्वास पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा की वो बीजेपी के इशारो पर काम कर रहे है और पार्टी को हड़पना चाहते है. अमनातुल्ला खान के इस बयान से पार्टी के कई विधायक नाराज हो गए और शीर्ष नेतृत्व से उनके खिलाफ कार्यवाही की मांग करने लगे. उधर कुमार भी अमनातुल्ला खान के बयान से नाराज दिखाई दिए.

और पढ़े -   टोल मांगने पर प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष का जवाब, मैं सांसद हूँ और टोल फ्री भी

यही कारण था की वो सोमवार रात पार्टी की PAC मीटिंग में भी नही पहुंचे. मीटिंग खत्म होने के बाद दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बताया की बैठक में अमनातुल्ला खान ने PAC से इस्तीफा दे दिया जो मंजूर कर लिया गया है. इसके अलावा PAC के बाकी सदस्य और खुद केजरीवाल अमनातुल्ला और कुमार दोनों से नाराज और आहत है.

सिसोदिया ने आगे कहा की सभी नेताओं को जो भी परेशानी है वो केजरीवाल से सीधे आकार कहनी चाहिए न की विडियो या मीडिया के जरिये कहनी चाहिए. कुमार आज मीटिंग में नही आये जबकि वो बाहर इंटरव्यू दे रहे है. सभी नेताओ को यह नसीहत दी जाती है की वो पार्टी फोरम में अपनी बात रखे न की मीडिया में. सिसोदिया ने सभी नेताओं और विधायको से पार्टी नेतृत्व में विश्वास रखने की भी अपील की. उधर इस्तीफा देने के बाद भी अमनातुल्ला खान अपने बयान पर कायम है. उन्होंने कहा की जल्द ही केजरीवाल को भी भी यह अहसास हो जायेगा.

और पढ़े -   महिला आरक्षण बिल: सोनिया की पीएम मोदी को चुनौती, लोकसभा में है बहुमत पास करवा कर दिखाए

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE