arvind-kejriwal-650x330

नई दिल्ली | प्रधानमंत्री मोदी के नोट बंदी के फैसले के बाद पूरा विपक्ष इस फैसला का विरोध कर रहा है. कुछ दल इस फैसले को सही लेकिन इसको लागु करने के तरीको पर सवाल उठा रहे है तो वही कुछ दल नोट बंदी को वापस लेने की मांग कर रहे है. इन सबसे अलग दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने नोट बंदी के फैसले को बड़ा घोटाला करार दिया है.

आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविन्द केजरीवाल नोट बंदी का लगातार विरोध कर रहे है. अपनी बात रखने के लिए वो सोशल मीडिया से लेकर जनसभाओ का इस्तेमाल कर रहे है. वो लगातार सवाल उठा रहे है की आखिर नोट बंदी से किसका कालाधन बाहर आया? किस बड़े उधोगपति के खिलाफ कार्यवाही की गयी? कौन बड़ा उधोगपति या राजनेता बैंकों की लाइन में खड़ा दिखा? इसके अलावा केजरीवाल ने नोट बंदी के फैसले को लागु करने में हो रही दिक्कतों पर भी सरकार को घेरा.

इसी क्रम में केजरीवाल ने ट्वीट कर केन्द्रीय पर्यटन मंत्री महेश शर्मा से भी सवाल पूछ डाले. केजरीवाल ने ट्वीट कर लिखा की महेश शर्मा की बेटी की शादी हो रही है. क्या महेश शर्मा के नोट बदल दिए गए? उनके पास शादी करने के लिए इतने नए पैसे कहाँ से आये? और क्या वो सारे पेमेंट चेक से कर रहे है? केजरीवाल के सवालो से बोखलाए महेश शर्मा ने भी उनको जवाब दिया.

महेश शर्मा ने जवाबी ट्वीट में लिखा की केजरीवाल जी पहले अपने तथ्यों को सही कीजिये. मेरी बेटी की नही बल्कि बेटे की शादी है. और हाँ मैंने सारे पेमेंट चेक से किये है. माना की केजरीवाल ने बेटे की जगह बेटी की शादी होने की बात की लेकिन ऐसा तो नही है की बेटे की शादी में कोई खर्चा नही होता. ये सवाल बड़ा है की जब बैंक से केवल 24 हजार रूपए प्रति हफ्ता निकल रहा है तो कोई भी शादी के लिए पैसे कैसे इकठ्ठा करेगा.

हालाँकि सरकार ने शादी वाले घर के लिए ढाई लाख रूपए निकालने की छूट दी है लेकिन उनके साथ इतनी सारी शर्ते थोप दी है की किसी के लिए भी बैंक से ढाई लाख रूपए निकालने संभव नही है. ऐसे में शादी वाले परिवार को आर्थिक दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें