दिल्ली के बिजली मंत्री सत्येन्द्र जैन ने मंगलवार को दिल्ली में लगातार हो रही बिजली कटोती के कारण रिलायंस कंपनी के अध्यक्ष अनिल धीरूभाई अंबानी को एक पत्र लिखा. पत्र में जैन ने कड़ी चेतावनी देते हुए लिखा कि अगर बिजली आपूर्ति व्यवस्था दुरुस्त नहीं हुई तो उनकी सरकार बिजली कंपनी के खिलाफ कठोर निर्णय लेने में पीछे नहीं हटेगी.

जैन ने बिजली कंपनी बीएसईएस के कामकाज पर असंतोष व्यक्त करते हुए कहा कि बीएसईएस दिल्लीवासियों की अपेक्षाओं पर खरा उतरने में नाकाम रही है और कंपनी पर भ्रष्टाचार और वित्तीय अनियमित्ताओं के भी आरोप हैं. ऊर्जा मंत्री ने कहा है कि कंपनियों के अधिकारियों को लगातार चेतावनी दी गई लेकिन उन्होंने या तो इसे नज़रअंदाज़ किया या वो इन गड़बड़ियों को दुरुस्त करने के काबिल ही नहीं हैं.

सत्येंद्र जैन की चिट्ठी

चिट्ठी के अनुसार, 14 साल पहले 2002 में दिल्ली के दो तिहाई बिजली वितरण का ठेका इस कंपनी को दिया गया था और उस समय कंपनी ने वादा किया था कि वो बिजली की दरों में कमी लाएगी और विश्वस्तरीय बिजली वितरण व्यवस्था का बंदोबस्त करेगी.

चिट्ठी में लिखा है, “आप ऐसा करने में असफल रहे. कैग की रिपोर्ट में भी आर्थिक अनियमितता का ज़िक्र किया गया है. ये भी आरोप लगे हैं कि कंपनी अपने आर्थिक संसाधनों को दूसरी कंपनियों में स्थानांतरित कर रही है.”

 


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें