yasin-malik1-1

जेकेएलएफ नेता यासीन मलिक ने कहा कि कश्मीरी युवा एक बार फिर बंदूक उठाने के कगार पर खड़ा हैं। इसका कारण उनके साथ हो रहा अत्याचार है। पूरी वादी में डर का माहोल हैं। युवाओ को बिना किसी वजह के उठा लिया जाता हैं। उन्हें टॉर्चर किया जाता हैं जिसके कारण आज कश्मीर का युवा बन्दुक उठाने पर मजबूर हैं।

और पढ़े -   राजनाथ सिंह: रोहिंग्याओं को वापस लेने के लिए म्यांमार तैयार, अब आपत्ति क्यों ?

मलिक के अनुसार कश्मीर में जो युवा 2008 में बंदूक छोड़ मुख्यधारा में जुड़े चुके थे। उनको बेवजह परेशान किया जा रहा है। युवाओं में राज्य सरकार के साथ मोदी सरकार के खिलाफ तेजी से नफरत बड़ती जा रही हैं। पढ़े-लिखे लोग आज बंदूक की तरफ देख रहे हैं। मोदी सरकार के आने के बाद से घाटी फिर 90 के दशक के मुहाने पर हैं।

और पढ़े -   आजम का शिवपाल पर इशारों में हमला: आस्तीन के साँपों की वजह से हारना पड़ा चुनाव

मलिक ने के बारे में कहा कि मोदी अटल बिहारी की बात तो करते हैं लेकिन वो कश्मीरीयों को डरा धमका कर रखना चाहते हैं। जबकि वाजपयी चाहते थे कि लोग उनसे मोहब्बत करे ना कि डरे।


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE