karuna

जयललिता के शपथ ग्रहण समारोह में करुणानिधि के बेटे एमके स्टालिन के कथित अपमान से डीएमके अध्यक्ष करूणानिधि बेहद नाराज हैं। करुणानिधि के अनुसार जिस तरह का व्यवहार उनके पुत्र के साथ किया गया हैं इससे उनकी पार्टी का अपमान हुआ हैं।

करुणानिधि ने मुख्यमंत्री जयललिता की कड़ी आलोचना करते हुवे कहा कि स्टालिन को भीड़ में बैठने के लिए मजबूर किया गया। इसके विपरीत जयललिता की पार्टी एआईएडीएमके के सहयोगी आर शरत को भी आगे की पंक्ति में बेठने की जगह दी गई।

करुणानिधि ने अनुसार, “डीएमके का सुनियोजित ढंग से ‘अपमान’ किया गया। मुख्य विपक्षी दल डीएमके के नेता के नाते स्टालिन आगे की पंक्ति में सीट के पूरे हकदार थे क्योंकि डीएमके ने 89 सीट जीती हैं। लेकिन स्टालिन को शरत कुमार से भी पीछे भीड़ में जगह दी गई।”

गोरतलब रहें कि एमके स्टालिन को शपथ ग्रहण समारोह के दौरान 16 वीं पंक्ति में बेठे हुवे देखा गया था। स्टालिन के साथ डीएमके नेता ई वी वेल्लु, पोनमुडी, विधायक शेखर बाबू और वगाई चंद्रशेखर भी मोजूद थे.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें