पटना | बीजेपी ने राष्ट्रपति चुनाव में अपना उम्मीदवार घोषित कर दिया. बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद को बीजेपी ने एनडीए का उम्मीदवार घोषित किया है. हालाँकि इस बारे में प्रधानमंत्री मोदी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी से बात की लेकिन खबरों के अनुसार कांग्रेस ने अपना अलग उम्मीदवार मैदान में उतारने का फैसला किया है. खबरों के अनुसार विपक्षी दलों ने रामनाथ के संघ से रिश्तो का हवाल देते हुए उनके चयन की आलोचना की है.

और पढ़े -   स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम में कुर्सी न मिलने पर भडके बीजेपी विधायाक बोले, मैं अब भी गुलाम

उधर बीजेपी के वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय से जब इस बारे में सवाल पुछा गया तो वो भड़क गए. उन्होंने उल्टा पत्रकार से ही सवाल पूछते हुए कहा की अगर रामनाथ आरएसएस से है तो क्या? क्या आरएसएस वाले पाकिस्तान से आये है? विजयवर्गीय ने पत्रकार से कहा की यह तो देश के लिए गर्व की बात है की उसे एक राष्ट्रवादी राष्ट्रपति मिलेगा.

विजयवर्गीय ने आगे कहा की अगर एक चाय वाला देश का प्रधानमंत्री बन सकता है, एक दलित देश का राष्ट्रपति बन सकता है तो कोई भी साधारण व्यक्ति बड़ी सफलता हासिल कर सकता है. बताते चले की राष्ट्रपति प्रणव मुख़र्जी का कायर्काल 24 जुलाई को खत्म हो रहा है. 17 जुलाई को राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान होगा जबकि 20 जुलाई को मतगणना का काम पूरा होगा.

और पढ़े -   बिहार में हुए सर्जन घोटाले के एक आरोपी नाजिर महेश की मौत, लालू ने नितीश पर उठाये सवाल

वही रामनाथ कोविंद के भाई ने मीडिया के सामने आकर उन बातो को बेबुनियाद बताया जिनमे कहा गया था की रामनाथ एक गरीब दलित परिवार से आते है. रामनाथ के भाई प्यारेलाल ने बताया की उनके पिता मैकूलाल पाराउख गांव के चौधरी थे. यही नही वो गाँव में किराने और कपड़े की दुकान भी चलाते थे. इसके अलावा वो वैध का काम भी करते थे. प्यारेलाल का कहना है की वो हमेशा से मध्यम वर्गीय परिवार रहा है. बताते चले की कल अमित शाह ने रामनाथ कोविंद को गरीब दलित परिवार से ताल्लुक रखने वाला बताया था.

और पढ़े -   ट्रिपल तलाक मामले में ओवैसी ने कहा - 'सुप्रीम कोर्ट के फैसले को जमीन पर लागू करना बड़ा काम'

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE