जम्मू  पीडीपी-बीजेपी गठबंधन के जारी रहने पर अनिश्चितता बने रहने के बीच नैशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारुक अब्दुल्ला ने बड़ा सियासी बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि अगर पेशकश की जाए तो उनकी पार्टी सरकार बनाने के लिए बीजेपी से गठबंधन पर विचार करने के लिए तैयार है।

फारूक अब्दुल्ला के बयान ने जम्मू-कश्मीर में बढ़ाई सियासी सरगर्मी

फारुक ने शनिवार को पत्रकारों को बताया, ‘अगर ऐसा प्रस्ताव आता है तो नैशनल कॉन्फ्रेंस कार्य-समिति की बैठक बुलाकर इस पर चर्चा की जाएगी। अगर ऐसे हालात पैदा होते हैं तो नैशनल कॉन्फ्रेंस इस पर विचार कर सकती है क्योंकि हमने दरवाजे बंद नहीं किए हैं। हमारे दरवाजे खुले हैं।’

पूर्व मुख्यमंत्री से पत्रकारों ने पूछा था कि अगर उन्हें बीजेपी की ओर से राज्य में गठबंधन सरकार बनाने का प्रस्ताव मिलता है तो उनकी पार्टी का रुख क्या होगा। राज्य में अभी राष्ट्रपति शासन लागू है। जम्मू-कश्मीर की 87 सदस्यीय विधानसभा में बीजेपी के 25 जबकि नैशनल कांफ्रेंस के 14 विधायक हैं।

और पढ़े -   बिहार सरकार में मंत्री ने सीबीआई को बताया कुत्ता कहा, लालू को फ़साने को हो रही कोशिश

फारुक ने ऐसे समय में यह बयान दिया है जब पीडीपी-बीजेपी गठबंधन के भविष्य को लेकर अनिश्चितता की स्थिति बनी हुई है। बीते सात जनवरी को मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद के अचानक हुए निधन से पहले यह गठबंधन राज्य में 10 महीने सरकार चला चुका है। सईद के निधन के बाद से ही अनिश्चितता की स्थिति बनी हुई है। नैशनल कांफ्रेंस के संरक्षक और पूर्व केंद्रीय मंत्री फारुक ने जम्मू-कश्मीर में जारी राजनीतिक अनिश्चितता के लिए 27 विधायकों वाली पीडीपी को जिम्मेदार ठहराया। फारुक ने कहा, ‘पीडीपी ने अनिश्चितता पैदा की है क्योंकि बीजेपी सरकार बनाने के लिए तैयार है। खुदा जाने पीडीपी क्या सोच रही है। मैं उम्मीद करता हूं कि वे इसे खत्म करें और सरकार चलने लगे।’

और पढ़े -   राम मंदिर पर अमित शाह ने कहा - आपसी सहमति या क़ानूनी दायरे में हो निर्माण

फारुक ने कहा कि नैशनल कॉन्फ्रेंस कभी अपनी भूमिका से पीछे नहीं हटती। गौरतलब है कि नैशनल कॉन्फ्रेंस पहले भी एनडीए का हिस्सा रह चुकी है। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, ‘नैशनल कॉन्फ्रेंस कभी अपनी भूमिका से पीछे नहीं हटती। 1996 में जब कोई चुनाव के लिए तैयार नहीं था, उस वक्त हम आगे आए।’

उन्होंने कहा, ‘मैं फिर कहता हूं कि राज्य के लिए अनिश्चितता ठीक नहीं है और ऐसे हालात से हमारे दुश्मनों को मदद मिलेगी।’ फारुक ने कहा कि दोनों पार्टियों के बीच गठबंधन सईद ने कराया था और अब उनकी बेटी और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती की जिम्मेदारी है कि वह इस दोस्ती को आगे बढ़ाएं। उन्होंने कहा, ‘लेकिन हमें पहले देखना होगा कि यह दोस्ती आगे बढ़नी चाहिए। वरना ऐसी दोस्ती का फायदा ही क्या।’ उन्होंने कहा कि राज्य में राजनीतिक अनिश्चितता को जल्द से जल्द खत्म करने के लिए पीडीपी और बीजेपी को सरकार बनानी चाहिए। साभार: नवभारत टाइम्स

और पढ़े -   नायडू ने सरकार को चूना लगाकर बेटी-बेटे को अरबों का फायदा पहुँचाया: कांग्रेस

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE