मोदी सरकार के तीन साल पूरे होने पर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने रोजगार को लेकर यूटर्न ले लिया है. उन्होंने कहा 125 करोड़ लोगों के देश में सभी को नौकरी मुहैया करना संभव नहीं है.

शाह ने कहा कि अगर उन्होंने यूपीए के शासन काल के दौरान ऐसे आंकड़ों पर ध्यान दिया होता तो उन्हें चुनावों में हार नहीं झेलनी पड़ती. उन्होंने कहा कि बेरोजगारी के आंकड़ों का अनुमान लगाने के लिए फिलहाल कोई सटीक प्रणाली नहीं है.

अमित शाह ने कहा, हमने रोजगार को नए आयाम देने की कोशिश की क्योंकि 125 करोड़ लोगों के देश में हर किसी को रोजगार मुहैया कराना संभव नहीं है. हम स्वरोजगार को बढ़ावा दे रहे हैं और सरकार ने आठ करोड़ लोगों को स्वरोजगारी बनाया है.

वहीँ कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सालाना दो करोड़ नौकरियां देने का वादा किया था, लेकिन बीते तीन साल में केवल एक लाख लोगों को ही नौकरी मिल पाई है. कांग्रेस प्रवक्ता ने आगे कहा कि इन तीन वर्षों में सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र में काम करने वाले लोगों को छंटनी का शिकार होना पड़ा है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE