omer

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने कहा कि भारत जम्मू-कश्मीर के लोगों के साथ ईमानदार नहीं रहा. पूर्व गृह मंत्री पी. चिदंबरम के विचार पर सहमति जताते हुए उन्होंने कहा कि केंद्र ने उन मुद्दों पर वादों को तोड़ दिया जिसके तहत कश्मीर का भारत में विलय हुआ था.

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह के दौरे के अंतिम दिन एक उच्चस्तरीय सुरक्षा बैठक में उमर अब्दुल्ला ने कश्मीर में शांति लिए सुझाव देते हुए कहा कि हमें सबसे पहले स्वीकार करना चाहिए कि जम्मू एवं कश्मीर में पैसे की कोई समस्या नहीं है. आप इसे आर्थिक पैकेज भेजकर हल नहीं कर सकते.  यह बंदूक का मुद्दा नहीं है. जाहिर है इसमें बंदूक की महत्वपूर्ण भूमिका है, लेकिन मौलिक तौर पर यह बंदूक से संबंधित मुद्दा नहीं है.’

और पढ़े -   सियासी नक़्शे पर बढ रही बीजेपी पर हो रही धनवर्षा, पिछले चार सालो में मिला 706 करोड़ रूपए चंदा

उमर ने कहा कि उन्होंने राजनाथ सिंह से कहा कि कश्मीर बुनियादी तौर पर एक राजनीतिक समस्या है और जब तक हम यह स्वीकार नहीं कर लेते, तबतक हम इसका कोई समाधान नहीं पा सकते. उन्होंने आगे कहा कि उनकी पार्टी के नेताओं ने राजनाथ से कहा है कि केंद्र सरकार को साहस जुटाना चाहिए और कश्मीर मुद्दे की वास्तविकता स्वीकार करनी चाहिए.

और पढ़े -   वाराणसी में लगे मोदी के लापता होने के पोस्टर लिखा, जाने कौन सा देश तुम चले गए

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE