मुंबई | दो दिन पहले कश्मीर में अमरनाथ यात्रियों पर हुए आतंकी हमले की चौतरफा आलोचना हो रही है. राजनितिक दलों से लेकर खेल और बॉलीवुड जगत की हस्तियों ने इस हमले की निंदा की है. उधर केंद्र और राज्य सरकार में बीजेपी की सहयोगी शिवसेना ने मोदी सरकार को चेताते हुए कहा की अब ट्विटर पर कड़ी निंदा करने से काम नही चलेगा, अब इस हमले का मुंहतोड़ जवाब देने का वक्त है.

और पढ़े -   ओवैसी को हराने के लिए अमित शाह ने शुरू की बड़ी तैयारी, AIMIM विरोधी लहर होगी शुरू

शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने गौरक्ष्को पर तंज कसते हुए कहा की अब गौरक्षको को आतंकवादियों के साथ लड़ने के लिए जाना चाहिए. आज देश में गौरक्षको का मुद्दा पुरे जोर शोर से उठ रहा है. मैं मानता हूँ की अगर उन आतंकियों के थैले में हथियार की जगह गौमांस होता तो आज एक भी आतंकवादी जिन्दा न होता. इसलिए सरकार क्यों नही गौरक्षको को आतंकियों से लड़ने के लिए भेज देती?

उद्धव ने मोदी सरकार को भी लपेटे में लेते हुए कहा की जब 1996 में अमरनाथ यात्रियों पर हमला हुआ तब बालासाहब ठाकरे की एक चेतावनी ने अमरनाथ यात्रा को सुरक्षित कर दिया था. तब केंद्र में कांग्रेस की सरकार थी, लेकिन अब तो हिन्दुत्वादी सरकार है. फिर भी हमले हो रहे है? अब तो लगता है की अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रम्प को ही गन उठाकर हिंदुत्व की रक्षा करनी होगी.

और पढ़े -   कश्मीर से धारा-370 हटाने से पीछे हटी बीजेपी, अमित शाह ने कहा - अभी नहीं कोई प्रस्ताव

उधर शिवसेना के राज्यसभा सांसद संजय राउत ने मीडिया से बात करते हुए कहा की जब बालासाहब थे तो उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा की था की अगर अमरनाथ यात्रियों का बाल भी बांका हुआ तो मुंबई सहित देश में किसी भी जगह से हज यात्रा के लिए विमान नही उड़ने दिया जाएगा. हम पूछते है की अगर देश में वैष्णो देवी और अमरनाथ यात्रा भी सुरक्षित नही हो सकती तो देश के 80 करोड़ हिन्दुओ की सुरक्षा किस होगी?

और पढ़े -   पोस्टर जारी कर सभी विपक्षी दलों से एकजुट होने की अपील, मायावती और अखिलेश दिखे साथ साथ

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE