नई दिल्ली | रविवार को मोदी सरकार के मंत्रिमंडल का विस्तार होना है. पिछले तीन साल में यह तीसरा मंत्रिमंडल विस्तार होगा. माना जा रहा है की प्रधानमंत्री मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह , आगामी लोकसभा चुनावो के मद्देनजर मंत्रिमंडल में फेरबदल कर रहे है. इसलिए उन राज्यों से कुछ सांसदों को मंत्रिमंडल में जगह मिल सकती है जहाँ विधानसभा चुनाव् होने वाले है. फ़िलहाल इस मामले में कांग्रेस ने मोदी पर कड़ा प्रहार किया है.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद गुलाब नबी आजाद ने कहा की अगर प्रदर्शन के आधार पर मंत्रिमंडल में फेरबदल किया जा रहा है तो फिर प्रधानमंत्री मोदी को सबसे पहले जाना चाहिए. क्योकि उनका प्रदर्शन सबसे ख़राब रहा है. गुलाब नबी ने मोदी की विफलताए गिनाते हुए कहा की उनका काम सबसे घटिया रहा है चाहे रोजगार देने का वादा हो , किसान के मुद्दे हो या फिर जम्मू कशिर में बिगडती कानून व्यवस्था हर जगह मोदी फेल रहे है.

गुलाब नबी ने नोट बंदी का जिक्र करते हुए कहा की कालेधन को खत्म करने के नाम पर की गयी नोट बंदी भी फेल हो गयी. इससे पहले कांग्रेस नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदम्बरम भी नोट बंदी को फेल बता चुके है. उन्होने कहा की आरबीआई के आंकड़ो के बाद लगता है की कही नोट बंदी कालेधन को सफ़ेद करने की योजना तो नही थी. उधर आनंद शर्मा ने मांग करते हुए कहा की नोट बंदी फेल होने के बाद मोदी को देश से माफ़ी मांगनी चाहिए.

फ़िलहाल मिली जानकारी के अनुसार रविवार सुबह साढ़े दस बजे मंत्रिमंडल का विस्तार किया जाएगा. लेकिन अभी भी दो पार्टियों को लेकर संसय बना हुआ है. दरअसल जेडीयु और अन्नाद्रमुक के कुछ सांसदों को भी मंत्रीमंडल में जगह मिलनी थी. लेकिन अन्नाद्रमुक फ़िलहाल अपने अंदरूनी कलह की वजह से सरकार में शामिल नही हो रही है वही जेडीयु की और से कहा गया की उनके सारे सांसद दिल्ली में मौजूद है लेकिन अभी तक उनके साथ कोई संवाद नही किया गया है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE