owaisi

आल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष और हैदराबाद से लोकसभा सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा लखनऊ के दशहरा कार्यक्रम में धार्मिक नारा लगाने की कड़ी आलोचना की हैं.

उन्होंने कहा कि वह देश के पहले प्रधानमंत्री हैं जिन्होंने किसी जनसभा में धार्मिक नारा लगाया है. भारत ने कई प्रधानमंत्री देखे और आगे भी देखेगा, लेकिन किसी प्रधानमंत्री ने धार्मिक नारा नहीं लगाया.

और पढ़े -   मध्य प्रदेश में सेक्स रैकेट चलाने और जासूसी काण्ड में बीजेपी नेताओ के पकडे जाने से पार्टी की राष्ट्रवादी छवि को पहुंचा नुक्सान ?

ओवैसी ने आगे कहा, सभी भारतीय थोड़ी देर के लिए सोचें कि अगर कोई नमाजी टोपी और लंबी दाढ़ी वाला व्यक्ति प्रधानमंत्री बन जाता है और अल्लाहु अकबर कहता है तो सारे चैनल खबर चलाएंगे कि भारत इस्लामी देश बन गया. परंतु अगर मोदी मजहबी नारा लगाते हैं तो कोई कुछ नहीं कह रहा है.

सांसद ने आगे कहा, ‘आपका असल मकसद ये है कि हिंदुस्तान को हिंदू राष्ट्र में तब्दील किया जाए।’ ओवैसी तीन तलाक और समान नागरिक संहिता के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड द्वारा आयोजित बैठक को संबोधित कर रहे थे।

और पढ़े -   सहारनपुर दौरे से पहले बोली मायवती - अगर मुझे कुछ होता है तो सिर्फ बीजेपी जिम्मेदार

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE