nursery-admission-arvind-kejriwal-government-shock-quota-management-at-the-finish-high-court-to-stop

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को पीएम नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि इंटरस्टेट काउंसिल की मीटिंग में शामिल होने के लिए जब वो मीटिंग हॉल की तरफ बढ़े तो उन्हें फोन नहीं ले जाने दिया गया. उन्होंने इस मुद्दे को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समक्ष उठाया और आश्चर्य जताया कि क्या उनसे ‘सुरक्षा को खतरा’ है.

‘अरविंद केजरीवाल एंड आम आदमी पार्टी – ऑन इनसाइड लुक’ नामी किताब के लॉन्च के मौके पर बोलते हुए केजरीवाल ने कहा, “उन्होंने मुझ सहित कुछ मुख्यमंत्रियों के फोन बाहर रखवा लिए… यह काफी विचित्र था… उन्होंने कुछ मुख्यमंत्रियों के फोन बाहर रखवा दिए, जबकि कुछ को अपने फोन अंदर ले जाने की अनुमति मिल गई… मैंने अपने भाषण में इस मुद्दे को उठाया… मैंने प्रधानमंत्री से पूछा कि क्या कुछ मुख्यमंत्रियों से उनकी सुरक्षा को खतरा है…”

केजरीवाल ने कहा कि वास्तव में ममता जी ने विरोध किया. उन्होंने कहा कि फोन लौटाइए अन्यथा मैं चली जाउंगी. उन्होंने पूछा कि क्या पश्चिम बंगाल में आपातकाल है, लोग उनसे संपर्क कैसे करेंगे? इसके बाद उन्होंने उन्हें फोन अंदर ले जाने की अनुमति दी. लेकिन उन्होंने ममताजी को बोलने नहीं दिया। मुझे भी काफी बाधा पहुंचाई. केजरीवाल ने पूछा कि अगर केंद्र विपक्ष की आवाज सुनना नहीं चाहता है तो उन्हें आमंत्रित क्यों किया गया.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें