rahul78

एक बार फिर से कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी ने नोटबंदी को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की आलोचना करते हुए कहा कि मोदी सरकार के इस फैसले से एक तरफ तो लोग लाइनों में लगे हैं वहीं शराब कारोबारी विजय माल्या और ललित मोदी जैसे लोगों को आजाद छोड़ रखा है. उन्होंने कहा, जब देश भर में बैंकों और एटीएम के बाहर 18-20 लोगों की मौत हो गई तो उस वक्त वह हंस रहे हैं.

गोवा में पीएम मोदी द्वारा दिए गये बयानों को आधार बनाते हुए उन्होंने कहा, करीब 18-20 लोगों की कतारों मेें मौत हो गई और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हंस रहे हैं. उनको स्पष्ट करना चाहिए कि वह हंस रहे हैं या रो रहे हैं. राहुल गांधी ने कहा कि मैंने बैंक जाकर देखा आम लोग लंबी कतारों में खड़े हैं. सरकार ने बिना किसी तैयारी के ये फैसला ले लिया जिससे आम जनता की मुश्किलें बढ़ गई हैं. लोग नौकरी करें या लंबी लाइनों में खड़े होकर पैसा निकालें.

इसके साथ ही उन्होंने विजय माल्या और ललित मोदी को लेकर पीएम पर निशाना साधते हुए कहा कि विजय माल्या और ललित मोदी जैसे करोड़ों रुपये का घपला करने वालों को छोड़ पीएम जनता को परेशान करने में लगे हैं. उन्होंने आगे कहा, उनकी पार्टी कालेधन के खिलाफ लड़ाई में सरकार के साथ है. लेकिन 500-1000 के नोट बंद होने से आम जनता को हो रही परेशानी पर सरकार के खिलाफ है.

राहुल गांधी ने कहा, अगर केंद्र की मंशा कालेधन पर अंकुश लगाने की है तो वे 2000 रुपये के नोट क्यों ला रहे हैं? प्रधानमंत्री ने यह फैसला तीन-चार लोगों को साथ रखकर किया है. लेकिन उन्हें समझना चाहिए कि देश मुट्ठी भर लोगों से नहीं चलता, इसका असर करोड़ों लोगों पर हो रहा है.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें