चुनाव आयोग ने भाजपा के सांसद साक्षी महाराज को मुसलमानों के खिलाफ भडकाऊ बयान सेने के लिए कारण बताओ नोटिस जारी किया है. उन्हें बुधवार सुबह तक यह बताने के लिए कहा गया है कि आखिर उनके खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं की जानी चाहिए.

आयोग की ओर से जारी किए गए नोटिस में कहा गया कि प्रथम दृष्ट्या उन्होंने 4 जनवरी से लागू आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन किया है. यह आचार संहिता उत्तर प्रदेश समेत पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों की घोषणा के बाद लागू की गई है. नोटिस में कहा गया कि उनकी टिप्पणियों में समाज के विभिन्न वर्गों के बीच शत्रुता को बढ़ावा देने का प्रभाव है.

और पढ़े -   जुनैद की हत्या पर बोली मोदी सरकार - बर्दाश्त नहीं की जायेगी ऐसी शर्मनाक घटनाएं

पिछले सप्ताह संत सम्मेलन में बोलते हुए साक्षी महाराज ने कहा था, देश में समस्याएं खड़ी हो रही हैं जनसंख्या के कारण. उसके लिए हिन्दू जिम्मेदार नहीं है. जिम्मेदार तो वे हैं जो चार बीवियों और 40 बच्चों की बातें करते हैं. उन्होंने यह भी कहा था कि पशुओं को मारकर जो धन कमाया जा रहा है, उसका इस्तेमाल आतंकवाद के वित्तपोषण में किया जा रहा है.

और पढ़े -   ईद पर सोनिया गांधी ने दी मुबारकबाद, कहा - विध्वंसकारी ताकतें अपनी साजिशों में नहीं होगी कामयाब

भाजपा के इस सांसद का यह बयान तब आया है, जब कुछ ही दिन पहले सुप्रीम कोर्ट यह फैसला सुना चुका है कि राजनीतिक दल और उम्मीदवार धर्म या जाति के आधार पर वोट नहीं मांग सकते. ज्ञात हो कि 11 फरवरी को उत्तरप्रदेश में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान का पहला चरण होगा.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE