नई दिल्ली। जेएनयू में भारत विरोधी नारे और उसके बार पुलिस कार्रवाई को लेकर राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। इस विवाद को लेकर हरियाणा के मुख्यमंत्री का पूर्व ओएसडी ने विवादित ट्वीट कर आग में घी डाल दिया है। पूर्व ओएसडी जवाहर यादव ने जेएनयू में भारत विरोधी नारे लगाने वाली लड़कियों से तवायफों को अच्छा बताया है।

जवाहर यादव ने ट्वीट किया कि JNU में लड़कियां जो देशद्रोही नारेबाजी कर रही थीं उनके लिए सिर्फ यही कहूंगा कि तुमसे अच्छी तवायफें होती हैं जो जिस्म बेचती हैं, देश नहीं। हालांकि जवाहर ने इस ट्वीट पर नकारात्मक प्रतिक्रियाएं मिलने के बाद सफाई में एक और ट्वीट किया कि उन्होंने किसी छात्रा की तुलना तवायफ से नहीं की है बल्कि वेश्वावृत्ति अपनाने को मजबूर बहन-बेटियों को देशद्रोही नारे लगाने वाली लड़कियों से अच्छा बताया है।

इसके बाद भी जब यादव के खिलाफ ट्विटर पर लोगों का गुस्सा जारी रहा तो उन्होंने सफाई देते हुए अपना पुराना ट्वीट डिलीट कर दिया। उन्होंने लिखा कि मेरे किए गए ट्वीट के गलत भावार्थ निकाले गए । इसलिए मैं अपने बयान को वापस लेता हूं। मेरा उद्देश्य किसी की भावना को ठेस पहुंचाना नहीं था।

जवाहर यादव हरियाणा हाउसिंग बोर्ड के चेयरमैन हैं और हाल तक वे मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के ओएसडी थे। यादव को कई बार सरकार के प्रवक्ता के तौर पर टीवी बहसों में सरकार का पक्ष रखते हुए देखा गया है।

इससे पहले बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने ट्वीट किया था कि देशद्रोही नारे लगाने वालों की जुबान काट लेनी चाहिए। अब जवाहर यादव के ट्वीट से साफ है कि ये मामला और गहरे राजनीतिक विवाद का रूप ले सकता है जिसमें दोनों पक्षों की ओर से इस तरह की और बयानबाजी देखने को मिल सकती है।


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें