पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शनिवार को एम मोदी पर भारत के संघीय ढांचे को जमींदोज करने का आरोप लगाते हुए कहा कि “मोदी सरकार संघीय ढांचे को जमींदोज कर रही है और संविधान का उल्लंघन कर रही है. वो राज्य सरकार की संचालन में हस्तक्षेप कर रही है. हम इस मसले पर राष्ट्रपति की राय लेंगे”

ममता ने सहयोगी संघवाद का जिक्र करते हुए कहा, ‘वे वास्तव में राज्यों और लोकतंत्र को डरा रहे हैं. यह कुछ और नहीं तानाशाही है. मैं जानना चाहती हूं कि क्या वे लोग देश में राष्ट्रपति प्रणाली वाली सरकार चला रहे हैं?’ उन्होंने कहा, ‘मैंने अब तक इतनी घमंडी सरकार नहीं देखी. यही कारण है कि जम्मू-कश्मीर और पाकिस्तान का मुद्दा भी तबाही का रूप लेता जा रहा है.’

और पढ़े -   ओवैसी का कल्बे सादिक को जवाब - मस्जिद अल्लाह का घर, मौलाना कहने पर नहीं दे सकते

ममता ने पत्रकारों को बताया कि केंद्र सरकार ने उन्हें एक पत्र भेजकर कहा है कि केंद्र सरकार द्वारा वित्त पोषित योजनाओं का पुनर्गठन किया जा रहा है. ममता ने कहा, “ये राज्य सरकारी की सहमति लिए बिना जबरदस्ती किया जा रहा है…वो सहकारी संघवाद की बात करते हैं. मुझे नहीं पता कि ये सहकारी संघवाद क्या है. अगर वो राज्य सरकार के संचालन में हस्तक्षेप करते हैं तो राज्य सरकार के होने को कोई मतलब नहीं है। ये बहुत ही गंभीर मसला है.

और पढ़े -   अगले साल विधानसभा चुनावो के साथ ही हो सकते है लोकसभा चुनाव

ममता ने कहा, ‘‘नरेंद्र मोदी तानाशाही चला रहे हैं. देश के लोग मोदी के तहत आजादी खो चुके हैं. वे (भाजपा) यह जानते हुए राष्ट्रपति व्यवस्था वाली सरकार चलाने की कोशिश कर रहे हैं कि अगली बार नहीं जीतेंगे.’ उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार में सिर्फ मंत्रालय-रक्षा, विदेश, रेल और वित्त होने चाहिए.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE