101689-naidu-111

केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू ने गौरक्षा के नाम पर किये जा रहें भगवा संगठनों द्वारा दलितों पर अत्याचार को लेकर निंदा करते हुए कहा कि धर्मांतरण करने से इस तरह के पूर्वाग्रहों का अंत नहीं होगा। उन्होंने आगे कहा कि हिन्दू धर्म भेदभाव की मंजूरी नहीं देता।

उन्होंने आगे कहा, कोई भी व्यक्ति जो दूसरे इंसान के साथ भेदभाव करता है, उसे कभी भी हिन्दू नहीं कहा जा सकता। नायडू ने कहा, अगर आप गाय का सम्मान करते हैं तो यह अच्छा है लेकिन दूसरे इंसानों को भी जीने का अधिकार है, अपना काम करने का अधिकार है। अगर आप गाय का सम्मान करना चाहते हैं तो करें। इसमें कुछ गलत नहीं है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप इसके नाम पर किसी की हत्या कर दें। यह पूरी तरह गलत है।

दलितों द्वारा हिन्दू धर्म त्यागने को लेकर कहा कि कुछ लोगों ने सुझाया कि धर्मांतरण से इस समस्या का अंत हो सकता है लेकिन ऐसा नहीं हुआ. ऐसे मामले हैं जहां लोग ने बताया कि दूसरे धर्मों में भी उन्होंने ऐसी ही स्थिति का सामना किया. उन्होंने आगे कहा अब वे शिकायत कर रहे हैं कि उन्हें आरक्षण नहीं मिल रहा क्योंकि संविधान धर्म के आधार पर आरक्षण नहीं देता.

गौरतलब रहें कि पिछले हफ्ते तमिलनाडु के करूर क्षेत्र में एक मंदिर उत्सव में हिस्सा लेने से रोकने के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे कुछ दलित परिवारों ने इस्लाम धर्म अपनाने की धमकी दी. साथ ही उना में दलितों पर हमलें को लेकर हजारों दलितों ने बौद्ध धर्म अपनाने का फैसला किया हैं.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें