बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष मायावती ने आरक्षण पर कांगेस और बीजेपी को कठघरे में खड़ा करते हुवे कहा कि पहले कांग्रेस और अब बीजेपी सरकार नीयत में खोट के कारण दलितों को आरक्षण की संवैधानिक सुविधा का लाभ पूरी तरह नहीं मिल पा रहा है.

हरियाणा में जाटों और गुजरात में पाटीदारों को ओबीसी के तहत आरक्षण न मिल पाने के लिए हरियाणा और गुजरात की भाजपा सरकार दोषी ठहराते हुवे बीजेपी की जातिवादी नीयत व नीति को जिम्मेदार बताया हैं. उन्होंने कहा कि “मनोहर लाल खट्टर सरकार की इस मामले में नीयत और नीति सही नहीं है. बीजेपी सरकार ने इसी नीति और नियत के चलते ही सम्बन्धित कानून को त्रुटिपूर्ण बनाया. यही कारण है कि न्यायालय को भी उसे लागू करने पर रोक लगाने के लिए अंतरिम स्थगन आदेश देना पड़ा है.”

और पढ़े -   अगले साल विधानसभा चुनावो के साथ ही हो सकते है लोकसभा चुनाव

उन्होंने कहा, “खासकर हरियाणा राज्य में जाट समुदाय को अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) में शामिल करके सीधे तौर पर उन्हें आरक्षण की सुविधा प्रदान करने के मामले में कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही पार्टियों की सरकारें ईमानदार नहीं रही हैं. इसी कारण जाट समुदाय के लोगों को बार-बार आन्दोलन पर उतरना पड़ा और पुलिस की लाठियां भी खानी पड़ी हैं.”

और पढ़े -   संघ पर राहुल गाँधी के वार से बोखलाई बीजेपी, संघ नेता भी हुए लाल

मायावती ने गुजरात में पटेल आरक्षण पर कहा कि गुजरात की बीजेपी सरकार ने भी पाटीदार समाज को अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) में सीधे-सीधे आरक्षण देने के बजाय, उन्हें अलग से पिछड़ा वर्ग बनाकर आरक्षण दिया है, जो कि इनकी गलत नीयत को उजागर करता है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE