नई दिल्ली | देश आजाद होने के बाद से केंद्र सरकार और राज्य सरकारों ने एक परम्परा का हमेशा पालन किया है. वो है रमजान के पाक महीने में इफ्तार पार्टी का आयोजन करना. इसके अलावा विपक्षी पार्टियों के बड़े नेता भी इफ्तार पार्टी का आयोजन करते आये है. इससे देश में धर्मिक सोहार्द का एक सन्देश जाता है. लेकिन मोदी सरकार बनने के बाद से यह परम्परा हाशिये पर चली गयी.

नरेन्द्र मोदी को प्रधानमंत्री बने तीन साल हो चुके है लेकिन ऐसा पहली बार हुआ की प्रधानमंत्री आवास में कोई इफ्तार पार्टी का आयोजन नही किया गया. पिछले तीन साल से पीएम आवास इसके लिए तरस रहा है. लेकिन मंगलवार को बीजेपी प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने बीजेपी कार्यालय में मौजूद सभी लोगो को चौंकाते हुए खबर दी की , मोदी जी इफ्तार पार्टी का आयोजन कर रहे है.

और पढ़े -   रोहिंग्याओं के अगर आतंकियों से है सबंध तो सबूत सार्वजानिक करे मोदी सरकार: कांग्रेस

यह सुनकर वहां मौजूद सभी लोग हक्के बक्के रह गए. दरअसल मंगलवार को बीजेपी कार्यालय में शाहनवाज हुसैन कुछ लोगो से घिरे हुए खड़े थे. तभी उनको एक फ़ोन कॉल आती है और वो सहमती में सर हिलाते हुए कहते है की जी मैं कार्यक्रम में पहुँच जाऊँगा. फ़ोन रखने के बाद शाहनवाज हुसैन वहां खड़े सभी लोगो को बताते है की मोदी जी इफ्तार पार्टी का आयोजन कर रहे है जिसमे वो इसमें सम्मिलत होंगे.

और पढ़े -   मोदी के दलित मंत्री ने उठाई सवर्ण जातियों को आरक्षण देने की मांग

शाहनवाज की यह बात सुन सभी लोग हैरान हो जाते है. लोगो की हैरानी देख शाहनवाज हुसैन , उनकी ग़लतफ़हमी दूर करते हुए कहते है की प्रधानमन्त्री मोदी जी नही बल्कि बिहार के बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सुशील मोदी इफ्तार पार्टी दे रहे है. बताते चले की नरेन्द्र मोदी के अलावा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी इफ्तार पार्टी आयोजित न करने का फैसला किया है. हालाँकि बीजेपी के अटल बिहारी वाजपेयी, कल्याण सिंह और राजनाथ सिंह इफ्तार पार्टी दिया करते थे.

और पढ़े -   रोहिंग्या पर ओवैसी ने लगाई राजनाथ को फटकार, कहा - उन्हें अवैध अप्रवासी कहना ठीक नहीं

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE