मुंबई | देश की सभी पार्टिया इस बात का हमेशा दावा करती है की उनकी पार्टी में लोकतंत्र है इसलिए हर किसी को अपनी बात रखने का अधिकार है. इस तरह की बाते उसी समय की जाती है जब कोई पार्टी का पदाधिकारी या बड़ा नेता पार्टी की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाने लगता है. हमेशा इस बात की शिकायत ज्यादा सुनने को मिलती है की पार्टी में एक व्यक्ति विशेष का वर्चस्व हो चूका है और उनकी बाते नही सुनी जा रही.

और पढ़े -   राजनाथ सिंह: रोहिंग्याओं को वापस लेने के लिए म्यांमार तैयार, अब आपत्ति क्यों ?

अब कुछ इसी तरह की बाते प्रधानमंत्री मोदी के लिए भी कही जा रही है. यह बात कोई और नही बल्कि बीजेपी के ही एक सांसद उठा रहे है. उनका कहना है की मोदी उनकी बात नही सुनते और सवाल पूछने पर भड़क जाते है. प्रधानमत्री के बारे में इस तरह की बाते पहली बार सामने आई है. हालाँकि विपक्ष इस तरह के आरोप हमेशा से लगाता आया है.

दरअसल महाराष्ट्र के भंडारा-गोंडिया से सांसद नाना पटोले ने मोदी पर आरोप लगाया है की वो सवाल पूछते ही भड़क जाते है. शुक्रवार को नागपुर में किसानो की समस्याओ को लेकर हो रहे एक कार्यक्रम में बोलते हुए उन्होंने कहा की जब मैंने मोदी जी से ओबीसी मंत्रालय और किसानो की आत्महत्याओ के बारे में सवाल किया तो यह उनका अच्छा नही लगा, वो उल्टा मुझ पर भड़क गए और पूछने लगे की क्या तुमने पार्टी का घोषणापत्र पढ़ा है.

और पढ़े -   महिला आरक्षण बिल: सोनिया की पीएम मोदी को चुनौती, लोकसभा में है बहुमत पास करवा कर दिखाए

नाना ने आगे बताया की इसके अलावा उन्होंने मुझसे सरकारी योजनाओं के बारे में भी पुछा. उन्होंने कहा की क्या तुम्हे सरकारी योजनाओं के बारे में पता है. नाना ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडनवीस को भी निशाने पर लिया. उन्होंने कहा की फड़नवीस , राज्य के लिए धन संचित करने में नाकामयाब साबित हुए है. महाराष्ट्र को केंद्र की तरफ से भी कम राशी आवंटित की जाती है जबकि मुंबई देश को सबसे ज्यादा पैसे जुटाकर देता है.

और पढ़े -   प्रिंस्टन यूनिवर्सिटी में बोले राहुल - नए रोजगार देने में पूरी तरह फ़ैल रही मोदी सरकार

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE