नई दिल्ली | हनीट्रैप में फंसे बीजेपी सांसद केसी पटेल ने महिला द्वारा लगाए गए सभी आरोपों को झूठा करार दिया है. इसके अलावा उन्होंने जांच में पूरा सहयोग करने का भी आश्वासन दिया है. उधर दिल्ली पुलिस ने मामले की गंभीरता को देखते हुए तुरंत जांच के आदेश दे दिए है. वही आरोपियों के खिलाफ धारा 384 (ब्लैकमैलिंग ) के तहत मामला भी दर्ज किया है.

दरअसल गुजरात से बीजेपी सांसद केसी पटेल ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी की एक महिला ने उनको नशीली चाय पिलाकर पहले बेहोश कर दिया और इसके बाद उनकी आपत्तिजनक तस्वीरे लेकर उनको ब्लैकमेल करने लगी. केसे पटेल ने आरोप लगाया की महिला उनसे 5 करोड़ रूपए की मांग कर रही है. महिला की तरफ से लगातार दबाव बनाने के बाद उन्होंने पुलिस की शरण में जाना बेहतर समझा.

और पढ़े -   रोहिंग्या शरणार्थियों को भी देश रहने का है मौलिक अधिकार: ओवैसी

पुलिस ने जब मामले की जांच की तो पता चला की आरोपी महिला ने पिछले साल सांसद के खिलाफ एक केस भी दर्ज कराया हुआ है. बताया जा रहा है की दिल्ली में इस तरह का एक गैंग काम कर रहा है जो सांसदों और बड़े नेताओं को अपने जाल में फंसकर उनको ब्लैकमेल करता है. इस गैंग की सरगना एक हाई प्रोफाइल महिला है जो एक योजना के तहत लोगो को फंसाती है.

और पढ़े -   रोहिंग्या मुस्लिमों के मुद्दें पर भारत बना रहा म्यांमार पर दबाव: सुषमा स्वराज

केसी पटेल ने पुलिस को बताया की वह महिला उसके पास मदद मांगने आई थी. इस दौरान उनसे जान पहचान बढ़ी तो एक दिन वो मुझे अपने घर लेकर गयी. उस दौरान हम दोनों ने चाय पी तो थोड़ी ही देर में मैं बेहोश हो गया. बेहोशी की हालत में महिला ने मेरी आपत्तिजनक तस्वीरे ले ली और बाद में रेप और इन तस्वीरो के बहाने ब्लैकमेल करने लगी. पुलिस के अनुसार यह महिला इसी तरह बड़े लोगो के पास मदद के लिए जाती है और फिर अपने जाल में फंसा ब्लैक मेल करना शुरू कर देती है.

और पढ़े -   मोदी के दलित मंत्री ने उठाई सवर्ण जातियों को आरक्षण देने की मांग

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE