udit

भाजपा सांसद एवं दलित नेता उदित राज अपनी सरकार के खिलाफ आरक्षण की मांग को लेकर मौर्चा खोल दिया. उन्होंने  निजी क्षेत्र और पदोन्नति में आरक्षण के लिए कानून बनाने की मांग को लेकर आन्दोलन करने की चेतावनी दी हैं.

उन्होंने कहा है कि जातिगत आरक्षण का विरोध किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं होगा समाज में जब तक जाति नहीं टूटेगी तब तक आरक्षण व्यवस्था होनी चाहिए. दलित उत्पीड़न को लेकर उन्होंने कहा कि दलितों पर अत्याचार बढ़ा है चाहे ऊना की घटना हो या हैदराबाद की.

उन्होंने आगे कहा कि सरकार चाहे किसी भी दल की हो, दलितों पर अत्याचार कम नहीं हो सकता है, क्योंकि सामाजिक व्यवस्था ही ऐसी है. उन्होंने आन्दोलन के बारें में जानकारी देते हुए कहा कि यह आंदोलन 26 नंवबर को शुरू होगा. सके बाद 28 नवंबर को दिल्ली के रामलीला मैदान में रैली कर निजी क्षेत्र में आरक्षण नीति लागू कराने की मांग की जायेगी.

राज ने चेतावनी देते हुए कहा कि आरक्षण के साथ छेड़छाड़ किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं की जाएगी. उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा, जन्म और जाति के आधार पर ही जमीन का मालिक, पुजारी तय होता है और सम्मान मिलता है तो जाति के आधार पर आरक्षण मिलने में कुछ भी गलत नहीं है


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें