नई दिल्ली | देश के नए राष्ट्रपति के चुनाव के लिए एनडीए ने अपने उम्मीदवार की घोषणा कर दी है. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने बिहार के वर्तमान राज्यपाल रामनाथ कोविंद को एनडीए की तरफ से उम्मीदवार बनाया है. हर बार की तरह इस बार भी प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह ने कोविंद का नाम आगे कर सभी राजनितिक पंडितो को चौंका दिया. यही नही मीडिया जगत के कुछ लोग भी कोविंद के नाम से हैरान थे.

और पढ़े -   संघ पर राहुल गाँधी के वार से बोखलाई बीजेपी, संघ नेता भी हुए लाल

कुछ पत्रकारो ने इसे मोदी का मास्टर स्ट्रोक बताया तो कुछ ने उनके इस कदम की आलोचना की. लेकिन इसी बीच पत्रकार राणा अय्यूब ने कोविदं के चयन पर कुछ ऐसे शब्दों का इस्तेमाल कर लिया जो एक बीजेपी नेता को नागवार गुजरा और उन्होंने राणा के खिलाफ थाने में एफआईआर दर्ज करा दी. अय्यूब के खिलाफ एससी/एसटी एक्ट में शिकायत दर्ज कराई गयी है.

दरअसल राणा अय्यूब ने कोविंद को एनडीए का उम्मीदवार बनाये जाने के बाद एक ट्वीट किया. इसमें उन्होंने लिखा,’ और तुम सोचते थे की प्रतिभा पाटिल ही सबसे ख़राब बेट (शर्त) थी.’ अय्यूब इस ट्वीट के जरिये कहना चाहती थी की जो लोग सोचते है की प्रतिभा पाटिल एक राष्ट्रपति के तौर पर ख़राब शर्त थी , कोविंद के तौर पर बीजेपी ने उनसे भी ख़राब उम्मीदवार को चुना है.

और पढ़े -   खुद को बचाने के लिए नीतीश और सुशील मोदी के सामने नाक रगड़ रहे: लालू यादव

अय्यूब का यह ट्वीट बीजेपी नेता नुपुर शर्मा को पसंद नही आया. उन्होंने थाने में अय्युब के खिलाफ एससी/एसटी एक्ट 1989 में मामला दर्ज करते हुए कहा की रामनाथ कोविंद अभी भी बिहार के राज्यपाल है और देश के राष्ट्रपति भी बन सकते है. ऐसे में उनके ऊपर ऐसे शब्दों का लिखा जाना गलत है. उन्होंने इन शब्दों को अपमानजनक और नफरत भरा करार दिया. नुपूर ने इसकी जानकारी खुद अपने ट्वीटर हैंडल से दी है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE