बीजेपी की सहयोगी शिवसेना राष्ट्रपति उम्मीदवार के तौर पर बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद का नाम आगे करने पर शिवसेना ने अपने पत्ते नहीं खोले है.

शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने स्पष्ट रूप से कहा है कि यदि वोट की राजनीति के लिए दलित उम्मीदवार उतारा गया है तो शिवसेना समर्थन नहीं देगी. लेकिन, यदि देशहित के लिए यह निर्णय लिया गया है तो समर्थन देने में कोई हिचक नहीं है. उन्होंने कहा कि शिवसेना मंगलवार को इस पर मंथन बैठक करेगी.

और पढ़े -   अगर मुसलमान मान ले हिंदुओं का अपना पूर्वज, तो फिर हम एक हो जाएंगे: स्वामी

उद्धव ठाकरे ने कहा, हमने कभी किसी को ढाल बनाकर राजनीति नहीं की है। हमने एम एस स्वामीनाथन का नाम सुझाया था ताकि किसानों को फायदा मिल सके. हम हमेशा किसानों के हित के लिए काम करेंगे.

उन्होंने कहा, राष्ट्रपति पद के दलित उम्मीदवार को लेकर राजनीति करने के प्रयास किये जा रहे हैं. अगर ऐसा है तो हम उनका समर्थन करने में दिलचस्पी नहीं रखते. हम कल राजग उम्मीदवार पर अपना अंतिम फैसला सुनाएंगे.

और पढ़े -   ट्रिपल तलाक मामले में मुस्लिम लीग ने कहा - मोदी सरकार अध्यादेश लाने में जल्दबाजी न करे

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE