मालेगांव | देश के 17 राज्यों और केंद्र में सत्तारूढ़ बीजेपी अब उन इलाको को टारगेट करने की कोशिश कर रही है जहाँ मुस्लिम बहुसंख्यक है. बीजेपी देखना चाहती है की इन इलाको में उनकी स्थिति क्या है? क्या यहाँ भी मोदी लहर का कुछ प्रभाव है या नही? हालाँकि बीजेपी हमेशा से हिन्दुत्वादी सोच पर चुनाव लडती आई है लेकिन कई राज्यों में जीत हासिल करने के बाद उनका इरादा अल्पसंख्यक मुस्लिमो में भी पैठ बनाने का है.

यही कारण है की बीजेपी ने आगामी मालेगांव नगर निगम चुनावो में करीब 60 फीसदी मुस्लिमो को टिकेट दिया है. यहाँ की 84 सीटो में से 77 पर बीजेपी ने अपने उम्मीदवार खड़े किये है जो की बाकी सभी पार्टियों में सबसे अधिक है. इन 77 उम्मीदवारों में से 45 उम्मीदवार मुस्लिम है. यह पहला मौका है जब बीजेपी ने किसी भी चुनाव में इतनी बड़ी संख्या में मुस्लिम उम्मीदवारों को उतारा है.

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावो में बीजेपी ने सभी को चौकांते हुए एक भी मुस्लिम को टिकेट नही दिया था. तब बाकी पार्टियों ने इसे मुद्दा बनाते हुए बीजेपी पर मुस्लिम विरोधी होने का आरोप लगाया था. यही नही बीजेपी के अन्दर भी इस फैसले को लेकर काफी गहमा गहमी रही. खुद गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने एक कार्यक्रम में कहा की हमें कुछ मुस्लिम उम्मीदवारों को टिकेट देना चाहिए था.

इसलिए मालेगांव में बड़ी संख्या में मुस्लिम उम्मीदवारों को टिकेट देना कही न कही बीजेपी की बदली रणनीति का हिस्सा है. मालेगांव नगर निगम चुनावो में बीजेपी के बाद कांग्रेस ने सबसे अधिक उम्मीदवार उतारे है. कांग्रेस ने 73 उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है. वही एनसीपी गठबंधन ने 66 उम्मीदवार खड़े किये है. इसके अलावा असुदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ने भी 37 उम्मीदवारों को टिकेट दिया है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE