mam

तृणमूल कांग्रेस ने राष्ट्रीय सस्तर पर 2019 में बीजेपी और आरएसएस की ‘विभाजनकारी राजनीति’ के खिलाफ धर्मनिरपेक्ष दलों से एकजुट होने की अपील की हैं.

तृणमूल कांग्रेस प्रमुख और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कुछ दिन पहले अपनी पार्टी के नेताओं से एक पुस्तिका तैयार करने को कहा था, जिसमें समूचे देश में सांप्रदायिक राजनीति की बुराइयों और बीजेपी तथा आरएसएस के उभार के खतरे को रेखांकित किया जाए.

तृणमूल के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, ‘हम समूचे देश में धर्मनिरपेक्ष दलों और पार्टियों को एक करना चाहते हैं. तृणमूल धर्मनिरपेक्ष ताकतों को साथ लाने के लिए एक अहम भूमिका अदा करेगी और गोंद की तरह काम करेगी.’ उन्होंने आगे कहा कि पुस्तिका का मसौदा तैयार कर लिया गया है और शीर्ष नेतृत्व से इसे मंजूरी मिलने का इंतजार है.

तृणमूल के अन्य नेता और सांसद ने कहा, ‘हम उत्तर प्रदेश के चुनावों के परिणाम की प्रतीक्षा कर रहे हैं, क्योंकि नतीजे बहुत हद तक यह साफ करेंगे कि हवा का रुख किस तरफ है. बीजेपी समूचे देश में तेजी से लोकप्रियता खो रही है और कांग्रेस अब भी अस्तव्यस्त है. विपक्षी में अब भी एक खालीपन है.’ उन्होंने कहा कि जैसे वक्त गुजरेगा, बीजेपी विरोधी मंच की अपील गति पकड़ेगी. हम इस खालीपन को भरना चाहते हैं. पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में जबर्दस्त जनादेश के बाद तृणमूल की लोकप्रिया बहुत ज्यादा है. (भाषा)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें