biry

हरियाणा के मुस्लिम बहुल इलाके मेवात में बकरीद के पहले बिरयानी में बीफ की जांच हेतु लिए जा रहे सैंपल की आलोचना करते हुए शुक्रवार को मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने आलोचना की हैं.

माकपा ने इस बारें में कहा कि गौ सुरक्षा तथा संरक्षण अधिनियम के लागू होते वक्त उसने चेतावनी दी थी कि इसका इस्तेमाल धार्मिक अल्पसंख्यकों को आतंकित करने के लिए किया जा सकता है और यही किया जा रहा हैं.

और पढ़े -   दलित और अल्पसंख्यक विरोधी नहीं बल्कि भाजपा महिला विरोधी भी है: गुलाम नबी आजाद

बयान में आगे कहा गया कि आरएसएस और भाजपा को वास्तव में गौ संरक्षण की कोई चिंता नहीं है. क्योंकि पार्टी ने गोवा में लोगों के बीफ खाने के अधिकार का बचाव किया हैं वहीँ पूर्वोत्तर में वह लोगों के बीफ सेवन के पक्ष में है.

माकपा ने कहा कि हरियाणा में अल्पसंख्यक आबादी बेहद कम है और केवल मेवात इलाके तक ही सीमित है और स्पष्ट तौर पर सांप्रदायिक ध्रुवीकरण के लिए यहाँ लोगों को आतंकित किया जा रहा है.

और पढ़े -   गौरक्षा पर सपा नेता की खरी-खरी - 'कुछ लोग हिन्दू धर्म के ठेकेदार बन चुके'

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE