शिलोंग | उत्तर पूर्व के अहम् राज्य मेघालय में बीजेपी की उम्मीदों को करारा झटका लगा है. गारो हिल्स के दो नेताओं के पार्टी छोड़ने के बाद करीब 500 और लोगो ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया. इसके अलावा बीजेपी नेताओं को कड़ा सन्देश देने के लिए वेस्ट गारो हिल्स के जिलाध्यक्ष रहे बर्नार्ड एन मारक ने शनिवार को बीफ पार्टी का आयोजन किया. इसमें सैकड़ो लोगो ने हिस्सा लिया. बर्नार्ड ने बताया की वो आने वाले दिनों बाकी राज्यों में भी इसी तरह की बीफ पार्टियों का आयोजन करेंगे.

और पढ़े -   अल्पसंख्यकों की सुरक्षा के मामले में दुसरे लोकतांत्रिक देशों से आगे है भारत: नकवी

शनिवार को वेस्ट गारो हिल्स के जिला हेडक्वार्टर के टूरा में बीफ पार्टी का आयोजन किया गया. बर्नार्ड ने बताया की रात 8 बजे तक इस पार्टी में करीब 500 लोगो ने हिस्सा लिया. एचटी की रिपोर्ट के अनुसार पार्टी में पारम्परिक संगीत और नृत्य के बाद लोगो को स्थानीय पेय बिची के साथ बीफ परोसा गया. इस दौरान बर्नार्ड ने कहा की बीफ हमारी परम्परा का हिस्सा है. हम इस पार्टी के जरिये कुछ बड़े नेताओं को चेतावनी देना चाहते थे की हमारे स्थानीय कानूनों और परम्पराओ का अनादर नही किया जा सकता.

और पढ़े -   मध्य प्रदेश निकाय चुनावो में जीत हासिल कर भी नुकसान में रही बीजेपी, मंदसौर में मिली करारी हार

बर्नार्ड ने आगे कहा की बीफ खाना हमारा अधिकार है इसलिए इसका सभी को सम्मान करना चाहिए.  हम और भी जिलो में इस तरह की बीफ पार्टी का आयोजन करेंगे. बर्नार्ड के अलावा एक अन्य पूर्व बीजेपी नेता ने कहा की पार्टी हमारे ऊपर हिंद्त्व विचारधारा थोपना चाहती थी, इसलिए हम पार्टी में अलग थलग से महसूस कर रहे थे. बीफ हमारी परम्परा का हिस्सा है. दरअसल उत्तर पूर्व के राज्यों में बीफ खाने की परम्परा रही है , इसलिए केंद्र सरकार के नोटिफिकेशन को ये लोग बीफ बैन के तौर पर देख रहे है.

और पढ़े -   ट्रिपल तलाक मामले में ओवैसी ने कहा - 'सुप्रीम कोर्ट के फैसले को जमीन पर लागू करना बड़ा काम'

यही वजह है की मेघालय में काफी लोगो ने बीजेपी छोड़ने का फैसला किया. बताते चले की मेघालय के गारो हिल्स में विधानसभा की 24 सीटे आती है. इसलिए सरकार बनाने के लिए यह इलाका बेहद आम है. लेकिन केंद्र सरकार के नोटिफिकेशन के बाद यहाँ बीजेपी का जनाधार कम हुआ है. इसके अलावा यहाँ के बीजेपी नेताओ ने मोदी सरकार के तीन साल पूरा होने पर बीफ पार्टी के आयोजन की मंजूरी मांगी थी जिसको बड़े नेताओं ने ठुकरा दिया.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE