सेना पर दिए गए विवादस्पद बयान के बाद समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता और यूपी के पूर्व मंत्री आजम खान ने सफाई देते हुए कहा कि उनके बयान को गलत तरीके से पेश किया गया है.

उन्‍होंने कहा, ‘मैंने सेना पर बलात्‍कार का आरोप नहीं लगाया है. मेरे बयान को गलत तरीके से लिया गया. मैं फासीवादी ताकतों का आइटम गर्ल बन गया हूं. भाजपा के लिए मैं नफरत का एजेंडा हूं. मेरे खिलाफ नफरत फैलाकर भाजपा को वोट मिलते हैं. मुझसे प्यार कीजिए, नफरत मत कीजिए. मैं बच्चों को पढ़ाता हूं, यूनिवर्सिटी चलाता हूं. मैंने मेडिकल कॉलेज बनाया है. छोटे घर में रहता हूं. मैंने वहीं बयान में कहा, जो अखबारों को न्‍यूज चैनलों पर प्रसारित हुआ था.’

और पढ़े -   राहुल ने मोदी पर आरएसएस के लोगो को हर संस्थान में डालने और झूठ बोलने का लगाया आरोप

आजम ने कहा कि इस देश में क़ानून का गलत इस्तेमाल किया जा रहा है. धर्म के नाम पर, गोश्त के नाम पर और पहनावे के नाम पर कमजोरों और बेसहारों पर जुल्म किया जा रहा है. गौरतलब है कि आजम खां का एक वीडियो सामने आया है. जिसमें उन्होंने कहा था कि हथियारबंद महिलाओं ने फौजियों को मारा. लाशों से जिस्म का जो हिस्सा काट कर ले गईं वो हिन्दुस्तान की असल जिंदगी से पर्दा उठाती है. कई लोग फौजियों और बेगुनाहों का सिर काटते हैं. लेकिन इस मौके पर महिला दहशतगर्दों ने फौज के निजी अंगों को काटकर ले गईं.

और पढ़े -   बिहार में हुए सर्जन घोटाले के एक आरोपी नाजिर महेश की मौत, लालू ने नितीश पर उठाये सवाल

वीडियो में आजम ने आगे कहा कि महिलाओं को शरीर के किसी और हिस्सों से शिकायत नहीं थी, उन्हें जिस हिस्से से थी वे उसे काटकर ले गईं. यह कितना बड़ा संदेश है कि इसपर पूरे देश को शर्मिंदा होना चाहिए और सोचना चाहिए कि आखिर हम दुनिया को क्या मुंह दिखाएंगे.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE