गाजीपुर | उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावो में प्रचंड बहुमत हासिल कर सरकार बनाने वाली बीजेपी को पहले ही उपचुनाव में करारी हार का सामना करना पड़ा है. करारी हार इसलिए कही जा रही है की जहाँ जहाँ चुनाव हुए है वहां पर बीजेपी या तो तीसरे नम्बर पर रही या चौथे नम्बर पर. ये चुनाव नतीजे योगी सरकार के लिए अच्छे संकेत नही है. इसको प्रदेश में बिगड़ी कानून व्यवस्था के साथ जोड़कर भी देखा जा रहा है.

और पढ़े -   स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम में कुर्सी न मिलने पर भडके बीजेपी विधायाक बोले, मैं अब भी गुलाम

दरअसल हाल ही में उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में जिला पंचायत सदस्य पद के लिए उपचुनाव हुए थे. इनमे कासिमाबाद और करंडा सीट शामिल थी. दोनों ही सीटो पर सत्तारूढ़ बीजेपी को करारी हार का सामना करना पड़ा है. जहाँ कासिमाबाद सीट पर बसपा प्रत्याशी तो करंडा सीट पर समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार ने जीत दर्ज की है.

सोमवार को आये नतीजो में कासिमाबाद सीट से बसपा की रीता देवी ने जीत दर्ज की. उन्होंने भासपा प्रत्याशी शीला देवी को 4048 वोटो से पराजित किया. इस सीट पर बीजेपी प्रत्याशी तीसरे नम्बर पर रहे और उनको कुल 1524 वोट मिले. वही करंडा सीट पर सपा के लाल बहादुर यादव ने जीत दर्ज की. उन्होंने बसपा प्रत्याशी हीरालाल चक्रवर्ती को 3662 मतों से हराया.

और पढ़े -   शरद यादव के साथ 20 विधायक, कभी भी गिरा सकते है नितीश सरकार

इस सीट पर बीजेपी प्रत्याशी चौथे नम्बर पर रहे. उनको 2848 वोट मिले. इन नतीजो से जहाँ विपक्षी दल उत्साहित नजर आ रहा है वही योगी सरकार और बीजेपी के लिए ये परिणाम बेहद चौकाने वाले रहे है. अभी कुछ महीने बाद प्रदेश में निकाय चुनाव होने है. सभी पार्टी इन चुनावो को गंभीरता से ले रही है. इसलिए अपनी साख बचाने के लिए बीजेपी को इन चुनावो में अपनी पूरी ताकत झोंकनी होगी.

और पढ़े -   बीआरडी अस्पताल में मौत की भेंट चढ़े बच्चो के परिजनो ने सुनाई आपबीती, अस्पताल प्रशासन पर उठाये सवाल

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE