Akhilesh_Mulayam_0_0_0_0_0_0

समाजवादी पार्टी में चल रही वर्चस्व की लड़ाई को लेकर घमासान के बीच रविवार को मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अपने चाचा शिवपाल सहित अमर सिंह के करीबी नेताओं को कैबिनेट से बाहर का रास्ता दिखा दिया. साथ ही अमर सिंह की करीबी माने जाने वाली जयाप्रदा से भी उनका पद छीन लिया.

रविवार को हुई एक अहम बैठक में अखिलेश यादव बेहद भावुक नजर आयें. इस दौरान उन्होंने अमर सिंह को दलाल कहते हुए कहा, नेताजी मेरे नेता ही नहीं पिता भी हैं. पूरी उम्र उनकी सेवा करते रहूंगा. मेरा पार्टी को तोड़ने का कोई इरादा नहीं है. कल नेताजी की बैठक में विधायक के तौर पर जाऊंगा। पार्टी के लिए प्रचार भी करूंगा.’

और पढ़े -   बिहार में हुए सर्जन घोटाले के एक आरोपी नाजिर महेश की मौत, लालू ने नितीश पर उठाये सवाल

अखिलेश ने आगे कहा कि मेरे घर में आग अमर सिंह ने लगाई है. मैं उन पर कार्रवाई करूंगा. उन्होंने आगे कहा कि अमर सिंह और दूसरे बाहरी लोगों को पार्टी के अंदर नहीं रहने दिया जाएगा. अमर सिंह हमारा घर तोड़ना चाहते हैं. अमर सिंह के साथी हमारे साथ नहीं रह सकते. मैं ही नेताजी का उत्तराधिकारी हूं. पार्टी नेता जी की है, वह फैसला करें.

और पढ़े -   पोस्टर जारी कर सभी विपक्षी दलों से एकजुट होने की अपील, मायावती और अखिलेश दिखे साथ साथ

मीटिंग के दौरान अखिलेश ने कहा कि वे अपने पिता का काफी सम्मान करते हैं. उम्र के इस पड़ाव पर आकर वे ऐसा कोई काम नहीं करना चाहते, जिससे नेताजी आहत हो जाएं। लेकिन हालात ऐसे हो गए हैं कि उन्हें मजबूरी में कुछ कदम उठाने पड़ रहे हैं. अखिलेश ने यह भी कहा कि मैंने कभी यह नहीं सोचा था कि अपने घर से अलग होकर पत्नी डिंपल के साथ सरकारी आवास पर रहना पड़ेगा.

और पढ़े -   स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम में कुर्सी न मिलने पर भडके बीजेपी विधायाक बोले, मैं अब भी गुलाम

इस दौरान मीटिंग में मौजूद 183 विधायकों ने अखिलेश में पूरा भरोसा जताते हुए उन्हें समर्थन देने का प्रस्ताव पास किया. मीटिंग के दौरान उनके भाषण को सुनते हुए कई नेता रो भी पड़े


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE