उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने पहली बार मुख्तार अंसारी और उसकी पार्टी कोमी एकता दल के सपा में शामिल होने के विषय पर स्पष्ट रूप से बातचीत की हैं.

अखिलेश यादव ने स्पष्ट रूप से कहा कि वह ऐसे लोगों को दल में नहीं चाहते और मुख्तार उनकी पार्टी में नहीं रहेंगे. एक निजी चैनल के कार्यकर्म में उन्होंने ने कहा कि ‘‘मैंने फैसला किया कि हम ऐसे लोगों को नहीं चाहते’’ उन्होंने आगे कहा कि यह फैसला मैंने नहीं लिया था. मुझे प्रदेश अध्यक्ष की हैसियत से मुख्यमंत्री की हैसियत से जिस प्लेटफार्म पर कहना होगा, मैं कहूंगा। मैंने कह दिया ना कि मुख्तार नहीं होंगे हमारी पार्टी में.

और पढ़े -   कोविंद के समर्थन पर बोले लालू - 'आरएसएस की राह पर चल दिए अब नीतीश कुमार'

गोरतलब रहें कि शिवपाल यादव की मोजुदगी में गुरुवार को मुख्तार अंसारी के भाई अफजाल अंसारी ने कौमी एकता दल के समाजवादी पार्टी में विलय की घोषणा की थी.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE